.

.

सोने-चांदी से सजेगी भाई कलाई


देहरादून। भाई-बहन के प्यार के प्रतीक रक्षासूत्र की खरीदारी भी जेब के हिसाब से की जा रही है। कई बहने अपने भाईयों के लिए दिल खोलकर खर्च कर रही हैं। यही वजह है कि बाजार में सोने और चांदी की राखियों की भी खूब खरीदारी हो रही है। हालांकि सोने की राखी आर्डर पर ही बनवाई गई, जबकि चांदी की राखी अधिकतर ज्वैलर्स ने पहले से ही तैयार कर रखी थी। काशी ज्वैलर्स की रश्मिा ने बताया कि भाईयों के लिए बहने चांदी की राखी और ब्रेसलेट दोनों पसंद कर रही हैं। इनकी कीमत एक हजार से लेकर छह हजार रुपये तक है। सोने की राखियों की शुरुआती कीमत 16000 रुपये है, हालांकि यह ऑर्डर पर ही बनाई जा रही हैं।
--
भाईयों की जेब भी ढीली
एक ओर जहां बहनों ने भाईयों के लिए खूब खर्च किया, वहीं भाई भी इसमें पीछे नहीं रहे। भाईयों ने अपनी बहनों के लिए सोने के टॉप्स, रिंग और बालियां खरीदीं। बग्गा ज्वैलर्स की पूजा ने बताया कि रक्षाबंधन पर भाई गले की चैन या हार जैसे भारी आइटम भले ही नहीं खरीदते, लेकिन बहनों के लिए अंगूठी और टॉप्स जैसे आइटम खूब खरीदते हैं।
--
बहनों ने खरीदे कार्ड और चॉकलेट
देहरादून। रक्षाबंधन की रेडीमेड थाली संग चॉकलेट और कार्ड सजा हो तो लगेगा न कुछ अलग। इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए बहनों ने इन सबकी खरीदारी की। वहीं भाईयों ने टैडी बियर, चॉकलेट, पर्स, परफ्यूम, मग्स, फोटो फ्रेम आदि की खरीदारी बहनों को उपहार देने के लिए की। पंद्रह हजार की कीमत वाला जंबो टैडी भी भाईयों ने खरीदा। सिस्टर लिखा हुआ मग और कोटेशंस भी भाईयों को भाया। आर्चिज गैलरी के गौरव चावला ने बताया कि बहनों ने भाईयों के लिए विशेष राखी थाली और कार्ड खरीदे तो भाई भी कुछ अलग ढूंढने को पहुंचे।


See More

 
Top