.

.


जागरण प्रतिनिधि, ऋषिकेश :
बारिश ने जहां आम जनजीवन को प्रभावित किया है वहीं सड़कों पर इसका सबसे अधिक दुष्प्रभाव पड़ रहा है। बीआरओ हर साल सड़कों की मरम्मत पर करोड़ों रुपये लगाता है मगर कुछ बारिश और लापरवाही से राजमार्ग की स्थिति जर्जर हो गई है। इस बार भी ऋषिकेश से बदरीनाथ जाने वाला हाइवे कई जगह पर क्षतिग्रस्त हो चुका है।
ऋषिकेश-बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग के रखरखाव का जिम्मा सीमा सड़क संगठन के पास है। संगठन काफी समय से इस राजमार्ग को चरणबद्ध तरीके से डबल लेन करने का काम कर रहा है। ऋषिकेश से कौडियाला के बीच की सड़क पर यह काम पूरा हो चुका है। आम मौसम में तो इस सड़क पर वाहन चलना आसान होता है मगर बरसात के सीजन में इस सड़क पर चलना किसी मुसीबत से कम नहीं। जिसका मुख्य कारण बरसात के दौरान इस राजमार्ग पर आने वाला भारी मलबा है। ऋषिकेश से आगे चलने पर सड़क पूरी तरह से पर्वतीय क्षेत्र में पहुंच जाती है। बरसात शुरू होते ही इस मार्ग के आसपास बहने वाले बरसाती नाले सक्रिय हो जाते है जो अपने साथ भारी मात्रा में मिट्टी व पत्थर बहाकर सड़क पर जमा कर देते हैं। वहीं बरसात में होने वाले भूस्खलन के साथ मिट्टी व बड़ी बड़ी चट्टानें भी सरककर सड़क को क्षति पहुंचाती है। राजमार्ग के समानांतर कई क्षेत्रों में ग्रामीण सड़क योजना पर काम चल रहा है। अधिकतर सड़कें राजमार्ग के ऊपर की पहाड़ी पर ही बन रही है। इन सड़कों का मलवा किसी अन्य स्थान पर गिराने के बजाय संबंधित विभाग व ठेकेदार इसे पहाड़ी से नीचे डाल देते हैं। जिससे यह मलबा भी पहाड़ी पर अटक जाता है और बरसात में पानी के साथ बहकर हाइवे को बाधित कर देता है। नियमानुसार सड़क कटान के दौरान मलबे को निस्तारण एक तय स्थान पर ही किया जाना होता है। मगर संबंधित विभाग इस ओर कोई ध्यान नहीं देते।
---------
बरसात में मलबा आने से काफी नुकसान होता है। इसमें कुछ प्राकृतिक व कुछ मानवीय गलतियों के कारण होती है। इस पर रोक लगाना भी कठिन है। मगर बरसात के बाद हर वर्ष सड़क की मरम्मत की जाती है।
वाईएस नेगी, सहायक अभियंता बीआरओ
------------
राजमार्ग पर 300 मीटर क्रैक्स बैरियर चोरी
ऋषिकेश: ऋषिकेश-बदरीनाथ राजमार्ग पर इन दिनों क्रैक्स बैरियर चोरों ने बीआरओ की नाक में दम कर रखा है। देवप्रयाग से ऋषिकेश के बीच के क्षेत्र में बीते एक सप्ताह के दौरान 300 मीटर से अधिक क्रैक्स बैरियर चोरी हो चुका है। बीआरओ के सहायक अभियंता वाईएस नेगी ने बताया कि एक सप्ताह के दौरान 300 मीटर क्रैक्स बैरियर चोरी हो चुका है। इसे बोल्ट से औजारों की सहायता से खोलकर निकाला जा रहा है। चोरी किया जा रहा स्टील से बना एक बैरियर करीब 30 किलो का है। उन्होंने बताया कि यह बैरियर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सड़क किनारे लगाए जाते हैं मगर बीते कुछ दिनों से यह लगातार चोरी हो रहे हैं। इस संबंध में पुलिस को भी जानकारी दी गई है।


See More

 
Top