.

.




जागरण संवाददाता, नई टिहरी : टिहरी बाध के द्वितीय चरण के निर्माण में लगी हिदुस्तान कंपनी में भिलंगना घाटी के बाध प्रभावित 14 गावों के लोगों को 100 फीसदी रोजगार, सामग्री सफाई में स्थानीय वाहनों को काम देने और आम जनता की सुविधा के लिए लाइजनिंग कार्यालय खोलने पर सहमति बनी। डीएम ने बाहरी लोगों को रोजगार देने पर कंपनी प्रबंधन के अधिकारियों को कड़ी फटकार लगाई।
बुधवार को जिला सभागार में जिलाधिकारी डॉ. रजीत कुमार सिन्हा की अध्यक्षता में आयोजित कंपनी प्रबंधन, टीएचडीसी के अधिकारियों और बाध प्रभावित भिलंगना घाटी संघर्ष समिति के पदाधिकारियों की बैठक में कंपनी प्रबंधन की ओर से स्थानीय लोगों की उपेक्षा और कार्यो में पारदर्शिता न बरतने पर जनप्रतिनिधियों और डीएम ने गहरी नाराजगी व्यक्त की। जाखणीधार के प्रमुख जगदंबा रतूड़ी ने बताया कि पूर्व में कंपनी प्रबंधन ने प्रभावित 14 गाव के 10-10 लोगों को रोजगार देने के लिए जनप्रतिनिधियों से सूची मागी थी। रोजगार तो नहीं दिया, पर रोजगार मांगने के लिए गए दर्जनों बेरोजगारों पर कंपनी ने झूठे मुकदमें दर्ज करवाए। डीएम सिन्हा ने टीएचडीसी की ओर से किए गए पौधरोपण की जाच तहसीलदार मीनाक्षी पटवाल को देने के साथ बाहरी लोगों को रोजगार देने, सामग्री सफाई में पारदर्शिता न बरतने, समाचार में निविदाएं न प्रकाशित करने पर कंपनी के अधिकारियों को कड़ी पटकार लगाई, टीएचडीसी और हिदुस्तान कंपनी की कार्यप्रणाली में जल्द सुधार न होने पर काली सूची में डालने की भी चेतावनी दी। इस मौके पर एडीएम प्रवेश चंद डडरियाल, टीएचडीसी के सीजेएम डीके गोविल, एजीएम विजय गोयल, जीतराम भट्ट, प्रदीप भट्ट, देवेंद्र नौटियाल, मेहरवान पंवार, डॉ. नित्यानंद उनियाल आदि मौजूद थे


See More

 
Top