.

.

uttarakhandnews1.blogspot.in




चीड़ (Pine )स्थानीय भाषा में :कुलायीं .. के जंगलों के मध्य से गुजरना अपने आप में ही अलग अनुभव है , चीड़ की वायु शरीर की थकान को समाप्त कर मन को प्रफुल्लित कर देती है ..चीड़ के वन की वायु तपेदिक जैसी विमारियों में बहुत लाभदायक है ...पुराने समय में तपेदिक से ग्रस्त रोगी के लिए स्वास्थ्य लाभ हेतु ,चीड़ के जंगल में ही घर बना दिया करते थे .... — at नयी टिहरी, उत्तराखंड .




See More

 
Top