.

.

uttarakhandnews1.blogspot.in


रुद्रप्रयाग दूसरा कालापानी
पिछले साल की आपदा ने रुद्रप्रयाग को प्रशासनिक हलके में नई पहचान दी है, कालापानी की। पनिशमेंट पोस्टिंग के लिए सही जगह। आज सुबह अखबारी रपट से पता चला कि खुल्मखुल्ला पारी खेल रहे डीजीपी ने एक दरोगा को इसलिए रुद्रप्रयाग भेज दिया क्योंकि दरोगा का जमीर जाग गया था और उसने जंगल कब्जाने का आरोप झेल रहे डीजीपी के मामले में उसके खिलाफ रिपोर्ट दी थी।इसी प्रकार दिसंबर में दून की एडीएम का ट्रांसफर भी रुद्रप्रयाग किया गया था क्योंकि इस अफसर ने सुपर सीएस का दरजा रखने वाले एक चर्चित अफसर के कहने पर नकरौंदा की 22 एकड़ जमीन उसके चहेतों के नाम नहीं की थी। इस मामले की तो मैने खुद ही रिपोर्टिंग भी की थी। और भी कई मामले हैं, बीते एक साल में सरकारी मुलाजिमों को ऐसे ही बतौर सजा रुद्रप्रयाग भेजा गया। अब आप समझ लीजिए कि रुद्रप्रयाग का भविष्य क्या होगा।
और हां, मेरे प्यारे पहाड़वासियों इसे चुनाव में मुद्दा बनाने की भूल मत करिएगा। चुनावी बटन दबाने के लिए तो थोड़ी सी जाति की अफीम, प्रचार के दौरान एक आधा दारू पार्टी, सीएम राहत से मिलने वाले पांच- सात हजार रुपए का लालच काफी है। और फिर चुनावी हवा तो विधायक निधि का ठेका, शराब और खनन कारोबार में पत्ती रखने वाले छुटभय्ये बना लेते हैं, हमें तो इस हवा में बहना भर है।
केदारघाटी लाइव
दस्तक, अगस्त्यमुनि
मुजीब भेजी..रुद्रप्रयाग का दर्द रखने के लिए आभार.....वैसे भी उत्तराखण्ड बनने के बाद पहाड़ के जिले ऐसी ही उपेक्ा के शिकार है...इसे नए अधिकारियो की प्रयोगशाला कहा जाता है और आपदा के बाद इसे पनिश्मेंटशाला कहा जाने लगा है अहोभाग्य हमारा....और पिछले कुछ सालो की आपदा ने तो ये भी जाता दिया की भगवान भी पहाड़ को हीन दिर्ष्टि से देखने लगा है.....अजब विडंबना है की रुद्रप्रयाग जिले ( केदारनाथ घाटी) मै आए महा विनाशकारी आपदा के बाद भी उसके लिए राहत कोडी के भाव मिली....चार माह बाद स्थानीय लोगो की बचने की याद शाशन को आई थी हमारा (रुद्रप्रयाग जिले वासियो) का जीवन तो वैसे भी उनकी व्यापक दिर्ष्टि मै गौण था अब फिर वही सब कुछ हो रहा है स्थानिया जन जीवन की उपेक्ा के बाद चार धाम यात्रा के लिए सरकार जोरशोर से लीपापोती कर रही है टूटी सड़को, कच्चे पुस्ते और दरकते खसकते पहाड़ो के बिच चार धाम यात्रा जोरदार स्वागत होगा .लेकिन खबरदार रुद्रप्रयाग जिले मै आने वाले सभी सम्मानित यात्री ..यहाँ वयस्थाए भगवान भरोसे है


See More

 
Top