.

.

uttarakhandnews1.blogspot.in

25 दिसम्बर 1992 को उत्तराखण्ड क्रान्ति दल ने हमारी पुरखों की गैरसैंण की मांग को अमली जामा पहनाया था और गैरसैंण में स्थाई राजधानी का शिलान्यास किया और चन्द्र सिंह गढ्वाली जी के नाम पर इस राजधानी क्षेत्र का नाम चन्द्रनगर रखा थ, इसके लिये हम उत्तराखण्ड क्रान्ति दल का आभार प्रकट करते हैं। लेकिन सता में आये दलों ने इस सर्व स्वीकार्य जगह को राजधानी बनाने के बजाय कोई और जगह ढूंढने के लिये आयोग बना दिया ज...ो भाजपा की अंतरिम सरकार से शुरु हुआ, उसको कांग्रेस की सरकार ने भी ढोया और फिर भाजपा की सरकार ने भी ढोया। अब सवाल यह है कि जो सत्ता में है, उसमें इतना साहस नहीं कि वह चन्द्र नगर का नाम भी ले सके, वे आज भी गैरसैंण ही कहते हैं, चन्द्र सिंह गढ़्वाली को इन्होंने ना पह्ले स्वीकार किया न आज उनको स्वीकार करने की हिम्मत है। भाई यह भविष्य बचाने की लड़ाई है, राजनीति इसमें नहीं होनी चाहिये...आओ ना मिलकर लड़ते हैं। आने वाली पीढियां आप सभी को धन्यवाद देंगे कि आपने उनके भविष्य को सुरक्षित रखने के लिये कम से कम राजनीति नहीं की।


See More

 
Top