.

.

uttarakhandnews1.blogspot.in



दादी को बचाने के ल‌िए भालू से जा ‌भ‌िड़ी! गांव से डेढ़ किमी दूर अपने खेतों से मवेशियों के लिए चारा लेने गईं थी दादी के साथ! कर्णप्रयाग के सिंद्रवाणी क्षेत्र की 19 वर्षीया दीपिका ने साहस दिखाते हुए भालू के पंजे में फंसी दादी की जान बचाई। दीपिका ने भालू पर दरांती से हमला किया तो भालू ने उस पर हमला कर उसे गंभीर रूप से घायल कर दिया। इसके बावजूद उसने हार नहीं मानी। घायलावस्था में भी उसने शोर मचाया तो ग्रामीण मौके पर पहुंचे। इस पर भालू भाग खड़ा हुआ।
बृहस्पतिवार को प्रात: 9.30 सिंद्रवाणी गांव की 60 वर्षीय सुशीला देवी अपनी पोती दीपिका (19) के साथ गांव से डेढ़ किमी दूर अपने खेतों से मवेशियों के लिए चारा लेने गईं थी। दादी खेत के किनारे ही घास काटने लगी जबकि दीपिका एक पेड़ पर चढ़कर चारापत्ती इकट्ठा करने लगी।
इसी दौरान अचानक भालू ने वृद्धा पर हमला करते हुए अपने नाखूनों से नोचना शुरू कर दिया। यह देख दीपिका ने पेड़ से छलांग लगाई और भालू पर दरांती से वार किया। इस पर भालू ने उस पर हमला किया और दीपिका जमीन पर जा गिरी।
भालू के हमले में हुई घायल
जब तक वह कुछ समझ पाती, भालू उसे गंभीर घायल कर चुका था। फिर भी दीपिका ने हार नहीं मानी उसने चिल्लाना शुरू कर दिया। उसकी आवाज सुनकर गांव के कई ग्रामीण मौके पर पहुंच गए। यह देख भालू भाग खड़ा हुआ।
अस्पताल में भर्ती दीपिका ने बताया कि दादी पर हमला करते देख उसे अपने से ज्यादा दादी की चिंता हुई। पोती के साहस को देख दर्द से बेहाल दादी की आंखें भी छलछला गई।


See More

 
Top