.

.

uttarakhandnews1.blogspot.in


सिरोबगड़ चारधाम यात्रा में मुख्य मार्ग जो श्रीनगर से 15 किमी और रुद्रप्रयाग से 20 किमी की दुरी पर स्तिथ है, विगत समय में देश और राज्य में कई सरकारे आई अब चाहे जननेता अटलजी की सरकार हो या अर्थशास्त्री मनमोहन की सरकार हो।
यूपी से अलग उत्तराखंड एक राज्य बना और यहा कांग्रेश और बीजेपी की बराबर सरकार बनी साथ ही छेत्रिया दलों और निर्दलियो को जनता द्वारा बराबर का प्रतिनिधित्व दिया गया...
किन्तु सिरोबगड़ की स्तिथि बद से बदतर होती गयी..आज भी राज्य की जनता और देश भर से आये श्रदालु अपनी जिन्दगी को हासिए पर रख कर इस मार्ग से आवाजाही कर रहे है।
अपवाद ये है की जब पहाड़ में इतनी बड़ी सिरोबगड़ के रूप में समस्या देश और राज्य के हुक्मरानों को दिखाई नही देती तो दूर दराज के पहाड़ो में जो समस्याए है उनसे ये खानापूर्ति जनप्रतिनिधि किस प्रकार परचित होंगे.
आम जनता के हक हकुको की लड़ाई लड़ने का ढोंग करने वाले वर्तमान छेत्रिया विद्यायक हरक सिंह, पुर्व सांसद सतपाल महाराज,वर्तमान सांसद और पुर्व मुख्यमत्री खंडूरी जी
जैसे तमाम नेताओ को ऐसे आम जनता की समस्याओ पर ध्यान न देने पर धिक्कार और शर्मशार होना चाहिए।


See More

 
Top