.

.

uttarakhandnews1.blogspot.in

~~**!! जल ही जीवन है !!**~~
प्रकृति ने हवा और पानी के रूप में इंसान को जीवन दान दिया है. शरीर में केवल पानी की मात्रा 75 प्रतिशत है. सहज ही समझा जा सकता है कि पानी शरीर के लिए कितना जरूरी है. चाहे वह पीने के लिए पानी की जरूरत हो या खाना पकाने के लिए, नहाने के लिए हो या घर बनाने के लिए, पानी हर जगह जरूरी है. प्रकृति ने इतनी जरूरी चीजें हमें बिना किसी कीमत के उपल्ब्ध कराई हैं लेकिन अफसोस कि आज जागरुकता की कमी कारण पानी की बर्बादी बहुत अधिक हो रही है और यह प्राकृतिक स्रोत भी अब इंसानी पहुंच से बाहर जाने की कगार पर पहुंच गया है.
साफ पानी जमीन के बहुत नीचे पहुंच गया है, पीने के लिए गंदा पानी मिलने के कारण शरीर कई बीमारियों से ग्रस्त हो रहा है. इसके अलावे भी तमाम परेशानियां हैं जो पानी या साफ पानी की कमी के कारण हो सकती हैं. लेकिन कभी प्रकृति का यह असीमित स्रोत अब सीमित होने की तरफ बढ़ने लगा है. अगर जल्द ही इसकी सुरक्षा और बचत के लिए हम सचेत न हुए तो स्थिति कितनी भयानक हो सकती है इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है.


See More

 
Top