.

.

uttarakhandnews1.blogspot.in

काशीपुर मेँ एक सप्ताह के भीतर बदमाशोँ ने जिस तरह बेखौफ होकर दो हत्याकांडोँ को अंजाम दिया है वह पुलिस के लिए ही नहीँ आम जनता के लिए भी चिँतनीय बात है। क्योँकि काशीपुर पुलिस चौराहे पर आम जनता का चालान काट कर बेवजह परेशान तो कर सकती है, लेकिन उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी नहीँ ले सकती है। ऐसे मेँ क्षेत्र की जनता को चालान के सौ रुपये जेब मेँ रखने के साथ ही अपनी सुरक्षा का बंदोबस्त आप करके चलना होगा। 10 जून की तड़के एक गरीब की हत्या हुई थी इस वजह से चर्चा कम हुई थी। यही वजह थी कि पुलिस सकून से थी। अब भाजपा नेता व स्थानीय सांसद भगत सिँह कोश्यारी एवं खटीमा विधायक पुष्कर सिंह धामी के नजदीकी अनूप अग्रवाल के चचेरे भाई एवं राइस मिलर की हत्या हुई है। यही वजह है कि अब पुलिस के गले गले आ गयी है। जवाब देते हुए नहीँ बन रहा है। हत्या आम आदमी की हो या खास की समाज को दहला देती है। भले ही उसका पुलिस या सरकार पर क्या प्रभाव पड़ता यह बात अलग है, लेकिन यह मामले आम आदमी को परेशान करते हैँ। रात को ठीक से नीँद नहीँ आती। पुलिस को दलालोँ के चंगुल व नेताओँ की चमचागिरी से छुटकारा पाते हुए निर्भीकता से काम करना होगा। मेरा तो यही मानना है कि पुलिस ये सब छोड़ दे जनता डर छोड़ देगी। पुलिस के सामने दो हत्याकांडोँ का खुलासा करने की चुनौती है। अब देखना है कि पुलिस की प्राथमिकता क्या होती है।


See More

 
Top