.

.

uttarakhandnews1.com



जनता की आवाज को कैसे दबाया जाता है इसका ताजा उदाहरण  ढंुग मंदार पट्टी के ननवा गांव में सामने आया जब क्षेत्रीय जनता अपनी मांगों के लिये धरने पर बैठे थे तभी स्थानीय विधायक विक्रम सिंह नेगी अपने चमचों के साथ धरने स्थल पर आये और धरने पर बैठी महिलाओं के साथ धक्का-मुक्की करने लगे यही नही उन्होंने मुझसे और ग्राम मुसांक्री के सम्मानित प्रधानपति भगवती प्रसाद लसियाल के साथ अभद्रता की और हमसे धक्का मुक्की कर हमारे कपड़े तक फाड़ डाले। और जब जनता ने उनको घेर लिया तो उन्होंने सत्ता की आड़ में पूरी जनता के खिलाफ झूठी एफ0आई0आर0 भी दर्ज करवा दी।

अब प्रश्न यह उठता है कि जनता को अपनी मांगें उठाने का भी कोई हक नही रहा? क्या स्थानीय विधायक का फर्ज नही बनता कि जनता की मांगों को सुने? अगर स्थानीय विधायक ने कोई विकासपरक कार्य किये है तो जनता को सड़कों पर उतरने की क्या जरूरत?  आखिर कब तक स्थानीय विधायक जनता के साथ दमनकारी नीति अपनायेंगे?


See More

 
Top