.

.

uttarakhandnews1.com




कनक्वे बटोळऊ -
ऊ सौं-करार नाता-रिश्तों थैंssss...!
जौंल बंधीं गिडाक-
खुस्स खुस्कै दे..!!
कख गै होली व अपडांस ..
की पीड...?
जैन्ल झझराट जिकुड़ी कु 
तक बिसरै दे..!!
फिर बि बन्धुंणु रैंदु-
माया की गेड...!!
आज न सै, भोळ न सै
कबि त गौळआ की माळआ बणई दे...!!
(मनोज इष्टवाल)


See More

 
Top