.

.

uttarakhandnews1.com



काफी संख्या में पहाड़ी लोग देहरादून बस गए हैं। लेकिन, उन्होंने अपनी पंरपरा और मेहनतकश जीवन नहीं छोडा है। तुनवाला में इस गढ़वाली परिवार को देखकर खुशी हुई ।मकान -कोठी बना ली है ।लेकिन वे खेती का मोह नहीं छोड़ पाए ।ऐसा भी नहीं है कि, ये लोग खेती पर ही निर्भर हों? नौकरी-चाकरी है। लेकिन नित्य खेतों को सलाम जरूर मारते हैं।स्वामी कहते हैं जब तक रोपाई के खेतों में मेंढ़क टर टर नहीं करते तब तक हमें नींद नहीं आती है ।सलाम ऐसे परिवारों को जो इस भयंकर महँगाई और देशी गिरी में भी अपनी अन्न कमाने की परंपरा नहीं छोडते हैं।


See More

 
Top