.

.

uttarakhandnews1.com



पहाड़ में एक मोबाइल कम्पनी शुरू हैगे, सब काम पहाड़ि में हुण भै गो...
मोबाइल कम्पनी नान फसकटेल छै :-
गहाक सहायता में एक आदिमैलि फोन कर तो कुछ यसि किसमैकि बात भै.....
फसकटेल हिटाव फोन में तुमर स्वागत छ....
अलमोड़ि भाषा लिजी एक च्यापो...
बागशेरै भाषा लिजी द्वि च्यापो...
पिथौरागढ़ि भाषा लिजी तीन
च्यापो..
चम्पावति भाषा लिजी चार च्यापो...
(तदुक में आदिम एक च्यापि दि)
तुमैलि अलमाड़ि भाष छाँटि राखी...
होय कूछा तो 'एक' च्यापो...नतर 'द्वि' च्यापो...
अगर तुम पैलि डबल चुकाइ ग्राहक छा तो 'एक' च्यापो...डबल पछिल चुकूणी छा तो 'द्वि' च्यापो...
(आदिम एक च्यापि दि)
अगर तुम हमार इसकीम जाणन चाछा तो 'एक' च्यापो.....और अगर इटरनैट क बार में जाणन चाछा 'द्वि' च्यापो....फोन कि घण्टी में झ्वाड़ चाचैरि भगनौल सैट करण
चाछा 'तीन' च्यापो...
और अगर हमर गहाक सेवा सैप दगाड़ फसक करण चाछा तो 'नौ' च्यापो...
तुमैलि 'नौ' च्यापि राखो....यां फोन करण में तीन मिनटाक आठान लागाल.....
अगर होय कूछा तो 'एक' च्यापो... नन्तरि 'द्वि' च्यापो...
(आदिम 'एक' च्यापों )
तुमर फोन हमार लिजी जूरूरी छू... यो फसक फराव कें हम टेब ले कर सकनू....लैन झन काटिया.... हमार गाहक सेवा सैप लोग दूसार नाक दगाड़ में फसक करण लागि रयी... तुमर दगाड़ ले कराल....तपार थाओ और लैन में रओ....
(पारै भीड़ै की बसन्ती छोरी..... यकैं आपुण फोन में स्यट करण चाछा तो एक दबाओ.... ओ चन्दू डराइबर....
यकै स्यट करण चाछा तो द्वि दबाओ.....रुकमा चांदी को बटना....)
हैलो...फसकटेल गहाक सेवा केन्द्र बटी मी नरि सिंह बलाड़यू....तुमरि कि सहायता कर सकू...??
आदिम - मील बेई यमैं पन्चास रुपे डालन पर कैकै दगाड़ फसक नै हुणाय.....कि बात हैरैन्हेलि..??
जागो चां धें हो....
कि हैरौ....
तुम लैन में रया....
होय चा यार भुला...
तुम लैन मैं रया हां....
होय होय तु भलीके चा...
होय दाज्यू हो...
तुम लैन में रया....
होय लैन में छ्यू...
यार तेरी आवाज सुणी जसि लागड़ै....
कां छ भुला तेर घर.."पार सनड्यार" और तुमार...यार मी "मनकोट" क भई।
सनड्यार को गौं छ ?
सनड्यार ब्यैड़ में छ हो ...
ब्यैड़ कैक च्योल भये ला तु...
मदन सिंह क...
को मधन सिंह जो कोपरेटिव बैंक में छी...होय.... तुम पछाड़छा बाब कें...
होय यार.... दगड़ै छ्यां नौकरी में ...
तुम को भया ?
मनकोट क... रमू सिंह ..त्योर बाब कस हैरौ रे च्याल..??
ठीक छन हो...
यार आपुण बाब धै कये रमूका याद करनैछी बल...
होय ठीक छू काका .. ब्याल बातै करै दयूल....
होय रे च्याल करै दिये पें...
ठीक छू काकज्यू पैलाग पैं...
आशीर्बाद रे च्याल....धरू पें ऐल.... भोव बात करुल....।
Courtesy: Uttarakhandi Dajyu



See More

 
Top