.

.

uttarakhandnews1.com



देहरादून  : 28 जुलाई, 2015

उत्तराखंड स्थित कर्णप्रयाग में गांव की एक युवती ने ‌अपने अकेले के प्रयास से शिक्षा की लौ को बुझने नहीं दिया।

24 दिनों से बंद पड़े कर्ण का प्राइमरी स्कूल सोनी, दीपा की पहल से 25वें दिन खुला। हालांकि स्कूल में शिक्षक की तैनाती नहीं हुई है लेकिन यहां शिक्षक के न आने तक गांव की यह युवती दीपा ही बच्चों को पढ़ाएगी।

मंगलवार को दीपा ने स्कूल पहुंचे करीब दस बच्चों को भी पढ़ाया। वहीं बीईओ ने स्कूल के लिए पूर्व में व्यवस्था के तहत भेजे गए शिक्षक का एक माह का वेतन रोके जाने के निर्देश दिए हैं।

ग्राम प्रधान कांति देवी, क्षेत्र पंचायत सदस्य मालदत्त पुरोहित, जिला पंचायत सदस्य लक्ष्मी जोशी, सामाजिक कार्यकर्ता बीरेंद्र कुमार ने बताया कि तीन जुलाई को स्कूल में तैनात शिक्षक का तबादला हो गया था, लेकिन उसके बाद विभाग ने यहां कोई तैनाती नहीं की।

इस कारण स्कूल 24 दिन तक बंद रहा। ग्रामीणों की लगातार शिकायत के बाद संकुल समन्वयक शिव सिंह ने यहां शिक्षक की व्यवस्था तो नहीं की लेकिन गांव की स्नातक कर रही युवती दीपा से स्कूल खोलने के लिए कह दिया और स्कूल की चाबी उन्हें सौंप दी।
Courtesy: अमर उजाला



See More

 
Top