.

.

uttarakhandnews1.com



हरिद्वार: 28 जुलाई, 2015

उत्तराखंड प्राविधिक शिक्षा परिषद की रविवार को हुई समूह-ग की परीक्षा का हल्द्वानी में पेपर लीक गया। पेपर आउट होने की पुष्टि होते ही शिक्षा परिषद के सचिव ने परीक्षा रद्द कर दी। सचिव ने मामले में रुड़की के गंगनहर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। परीक्षा की नई तारीख की घोषणा बाद में की जाएगी।

रविवार को प्रदेशभर में राजकीय पर्यवेक्षकों के 76 पदों की परीक्षा होनी थी। पेपर दोपहर दो से चार बजे तक होना था। इसके लिए प्रदेश में 475 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। 1.56 बजे नैनीताल के डीएम दीपक रावत के मोबाइल पर रामनगर के एक व्यक्ति ने व्हाट्सएप  के जरिए हाथ से लिखे दस पन्ने भेज दिए। उस व्यक्ति ने दावा किया कि जो परीक्षा दो बजे होने वाली है उसके प्रश्न और उत्तर इन पन्नों में हैं।

डीएम रावत और सिटी मजिस्ट्रेट हरवीर सिंह नैनीताल रोड स्थित श्री गुरुतेगबहादुर सीनियर सेकेंडरी स्कूल के परीक्षा केंद्र पहुंचे और पेपर का मिलान किया। इसमें 50 फीसदी से अधिक सवाल मिल गए। डीएम ने इसकी सूचना फौरन प्राविधिक शिक्षा परिषद के सचिव हरि सिंह को दी । पेपर लीक होने की पुष्टि होने के बाद सचिव ने शाम को परीक्षा रद्द कर दी। उन्होंने बताया कि परीक्षा की अगली तारीख की घोषणा बाद में की जाएगी। उनकी तहरीर पर रुड़की के गंगनहर थाने में रिपोर्ट दर्ज कर दी गई है।

पहले भी हो चुके हैं पेपर लीक
प्रदेश में प्रतियोगी परीक्षाओं के पेपर लीक होने की यह पहली घटना नहीं है। इसके पहले कई बार एसएससी का पेपर लीक हो चुका है। इसी साल यूपीएमटी का पेपर लीक कराने के नाम पर भी एक करोड़ से ज्यादा की रकम बटोरी गयी थी। इस मामले में पुलिस ने गिरोह को गिरफ्तार भी किया था। इसके अलावा इसी साल एआईपीएमटी पेपर लीक रोहतक में हुआ था लेकिन लीक कराने वाले गैंग ने दून के कोचिंग सेंटरों से भी इस बारे में सम्पर्क साधा था। दो साल पहले देहरादून में डीएवी का एलएलबी प्रवेश परीक्षा का पेपर भी वाट्सएप पर लीक हो गया था। इसके अलावा परीक्षा में किसी दूसरे अभ्यर्थी को बैठा देने और ब्लूटूथ डिवाइस से नकल कराने के 10 से ज्यादा मामले बीते एक साल में पकड़े जा चुके हैं।


परीक्षा शुरू होते ही पहुंचने लगा पेपर
सूत्रों के मुताबिक परीक्षा शुरू होने से थोड़ी देर पहले ही परीक्षार्थियों के फोन पर पेपर पहुंचने लगा था। थोड़ी ही देर में सभी जगह लोगों की इसकी जानकारी मिलने लगी। चंपावत और रुड़की से भी पेपर मिलने की शिकायत मिली है। ज्यों ही प्राविधिक शिक्षा परिषद रुड़की पेपर लीक की सूचना पहुंची वहां हड़कंप मच गया। सभी सूचना की पुष्टि में जुट गए। डीएम नैनीताल द्वारा पुष्टि करने पर परीक्षा रद्द करने का फैसल लिया गया।
Courtesy: हिन्दुस्तान



See More

 
Top