.

.







#uttarakhandnews
गुप्तकाशी, रुद्रप्रयाग : 18 अगस्त, 2015
गुप्तकाशी: प्राथमिक विद्यालय फलीफसालत में नौनिहालों की नजर किताबों पर कम और छत पर ज्यादा टिकी रहती है। बारिश का पानी छत से टपक रहा है। स्कूल भवन की दीवारों में भी दरारें पड़ी हुई हैं। आसपास कोई अन्य भवन न होने से विद्यालय इसी जर्जर भवन पर संचालित हो रहा है। ऐसे में यहां पढ़ने वाले छात्रों के लिए हर समय जान जोखिम का खतरा बना हुआ है।
ऊखीमठ ब्लॉक अन्तर्गत प्राथमिक विद्यालय फलीफसालत में फली व पशालत गांव के कक्षा एक से पांच तक करीब 17 बच्चे शिक्षा ग्रहण करते है। विद्यालय भवन की स्थिति ठीक न होने से बच्चे भवन के नीचे डर के साए में शिक्षा प्राप्त करते है। प्राथमिक विद्यालय के इस भवन में चार कमरे व एक बरामदा है। इनमें से एक कमरे को छोड़ बाकी सभी कमरों की छतों से पानी टपकता है। भवन पर कई जगहों पर दरारें पड़ चुकी है। बारिश होने पर छत का सारा पानी अंदर टपकने लगता है। इससे विद्यालय प्रशासन को सभी कक्षाओं को एक कमरे में संचालित करना पड़ता है। पर्याप्त व्यवस्था न होने से छात्रों के पठन-पाठन पर भी इसका असर पड़ता है। विद्यालय संचालित करने के लिए कोई अन्यत्र भवन न होने से इसी जर्जर विद्यालय भवन में विद्यालय संचालित करना पड़ता है। इससे कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। इस गांव के नीचे से जल विद्युत परियोजना एलएनटी की सुरंग गुजर रही है। परियोजना प्रभावित गांव होने के चलते ग्रामीणों ने एलएनटी से विद्यालय निर्माण के लिए दबाव बनाया था। कंपनी ने विद्यालय निर्माण करने के लिए हामी भरी थी, लेकिन कंपनी ने भी अभी तक कार्य शुरू नहीं कर पाई।
'प्रावि फलीफसालत का विद्यालय भवन जर्जर हो गया है। विद्यालय की छत से पानी टपक रहा है। इससे विद्यालय में पढ़ने वाले छात्रों को खतरा पैदा होता जा रहा है। पूर्व में डीईओ बेसिक व खंड विकास अधिकारी भी विद्यालय का निरीक्षण कर चुके है, लेकिन कुछ नहीं हो पाया।
विष्णुकांत शुक्ला, ज्येष्ठ उपप्रमुख ऊखीमठ।
'पूर्व में इस विद्यालय का निर्माण स्वयं सेवी संस्थाओं की ओर से किया जाना था, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। अन्य एजेंसी से बातचीत चल रही है। जिला योजना में भी विद्यालयों के निर्माण के लिए एक करोड़ रुपये की धनराशि स्वीकृत हो गई है। ज्यादा जरूरत वाले विद्यालय का पहले निर्माण किया जाएगा।
जेपी यादव, जिला शिक्षा अधिकारी बेसिक, रुद्रप्रयाग।
Courtesy: जागरण



See More

 
Top