.

.









#uttarakhandnews
देहरादून: 13 अगस्त, 2015


कुमायूं मंडल विकास निगम के निदेशक डी०एन० बड़ोला ने रानीखेत से 10 किलोमीटर दूर ताड़ीखेत मैं कुमायूं मंडल विकास निगम की 16-17 नाली जमीन मैं स्थित एक मिस्ट चैम्बर (Mist Chamber) का निरीक्षण किया ! जो कि अब बंद है l उनके साथ जड़ी बूटी के जानकार रामेश्वर गोयल भी थे ! बताया गया कि मिस्ट चैम्बर का प्रयोग पानी की कमी के कारण सफल नहीं हुवा ! इसके पश्चात इसमें जड़ी-बूटी-मशाला योजना केंद्र स्थापित किया गया परन्तु वह भी कुछ समय बाद पानी की कमी के कारण बंद हो गया ! अब कुछ वर्षों से यह स्थान उजाड़ एवं उपेक्षित हो गया है ! इसमें एक हाल का निर्माण भी किया गया था जहां पर स्थान पर बड़ी बड़ी घास उग आई है ! दो केयरटेकर इसकी देख भाल को नियुक्त किये गए है ! बड़ोला ने कहा कि उन्हें आश्चर्य है और दुःख भी है की निगम की इतनी बहुमूल्य सम्पति का सदुपयोग नहीं हो पा रहा है जबकि इस बहुमूल्य संपती की देख भाल मैं ही लाख़ों रुपया खरच हो रहा है ! ताड़ीखेत के मुख्य बाजार से थोड़ी सा हटकर यह स्थान बहुमूल्य है क्योंकि यह सड़क से मात्र कुछ कदम की दूरी पर स्थित हैं ! बड़ोला ने कहा की उन्होंने मुख्य मंत्री जी को एक पत्र लिखर निवेदन किया था की निगम की बहुमूल्य संपत्ति कुमायूं के हर शहर मैं है ! परन्तु इनकी देख भाल नहीं हो पा रही है ! ऊपर से इसकी चौकीदारी मैं ही काफी रुपया खरच हो रहा है ! ताड़ीखेत मैं बंदरों व अन्य जंगली जानवरों से त्रसित अनेक किसान व उनके नेता बड़ोला से मिले उन्होंने बताया कि पर बंदरों के आतंक से किस प्रकार वह त्रसित हैं l बंदरों के अतिरिक्त सूवर और अन्य जानवर भी उनकी खेती को चौपट कर देते हैं ! चूंकि जड़ी, बूटी को बन्दर व अन्य जानवर नुकसान नहीं पहुंचाते हैं इसलिए वे जड़ी बूटी केंद्र हेतु अपने खेतों मैं जड़ी बूटी उगा कर नए तरीके से स्थापित इस नए जड़ी बूटी केंद्र को जड़ी बूटियों की अबाध पूर्ती करते रहेंगे ! उन्होंने कहा कि वह शीघ्र ही एक प्रतिवेदन इस सम्बन्ध मैं निगम को देना चाहते हैं ! मैं समझता हूँ कि वर्तमान मैं पानी की कमी का हल मात्र एक हैंडपंप लगाने से हो सकता है ! इस हेतु हैंडपंप के साथ एक मोटर भी लगाया जा सकता है ! इस सबकी कीमत लगभग 1 या 1.5 लाख रूपया हो सकती है ! छत मैं ट्रांसपेरेंट प्लास्टिक शीट्स लगाईं जा सकती हैं ! मात्र इतना करने से प्रारंभ मैं निगम को इस सम्पति से आय होने लगेगी तथा संपत्ति की देख भाल भी हो सकेगी ! इस हेतु शीघ्र एक एक्सपर्ट टीम इस स्थल का दौरा कर अपनी रिपोर्ट अध्यक्ष महोदय को पेश करे जिससे कि निगम की बहुमूल्य संपत्ति बरबाद होने से बची रहे ! इस स्थान पर कुल 16-17 नाली भूमि है ! एक्सपर्ट टीम इस पूरे स्थान के उपयोग के बारे मैं भी अपनी बड़ोला ने कहा है की मैं चाहूंगा की निगम के बोर्ड की अगली बैठक के एजेंडा मैं इसे शामिल किया जाय करने जिससे की इस पर विषद चर्चा की जा सके !


See More

 
Top