.

.









देहरादून: 16 अक्टूबर , 2015

प्रदेश भर के 800 गावों का भ्रमण कर बीस दिन बाद गांव बचाओ यात्रा दून के गांधी पार्क आकर समाप्त हो गई। यात्रा के आखिरी पड़ाव में सचिवालय के पास यात्रियों और पुलिस में भिड़ंत होते-होते बची। निर्धारित कार्यक्रम के तहत जब यात्रा सचिवालय के पास पहुंची तो उनको प्रतीकात्मक प्रदर्शन से पुलिस ने रोक दिया। इससे गुस्साए लोगों ने मुख्यमंत्री और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

माहौल गरमाया तो पद्मश्री डॉ. अनिल जोशी सचिवालय के समक्ष दीवार पर खड़े होकर सत्ताधारियों को ललकारने लगे। कहा कि यह सरकार समतावादियों व गांधीवादियों का संवैधानिक अधिकार तक छीनने में लगी है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के गांवों में गुस्सा, गम, निराशा, हताशा का महासमुद्र बह रहा है।

लोगों में दोनों राजनीतिक दलों और नौकरशाही के प्रति बहुत उग्र घृणा है। ये लोग धन व छल के कारण सत्ता में हैं। इसलिए लोगों में व्यवस्था के प्रति अविश्वास चरम पर पहुंच चुका है।
Courtesy: अमर उजाला


See More

 
Top