.

.











नैनीताल : 16 नवंबर  , 2015

ये है नेहा (चंपा) मटियाली...! नैनीताल जिले के दूरस्थ क्षेत्र की नेहा मटियाली खेल जगत में राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार प्राप्त चुकी है. यही नहीं वह राष्ट्रपति पुरस्कार (स्काउट एंड गाइड) में प्राप्त कर चुकी है. दर्जनों राज्य स्तरीय पुरस्कार उसकी झोली में हैं..लेकिन है एक बेहद गरीब किसान की बेटी.
कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय खनस्यु विकास खंड ओखलकांडा नैनीताल से बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण कर अपने भविष्य के सपने संजोने के लिए नेहा मटियाली ने कई विभागों में आवेदन डाले लेकिन भ्रष्ट तंत्र में भला गरीब की कोई पूछ होती है. परिवार के हालात देख नेहा ने हल्द्वानी स्थित कम्पनियों में कामकर अपनी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ करने के साथ पढ़ाई भी जारी रखी. साथ ही हर सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करती रही.लेकिन नतीजा कुछ नहीं. आखिर थक हारकर नेहा ने अब डीपीएड करने की राह चुनी, लेकिन उसका पढ़ाई का खर्चा कैसे पूरा होगा यह सोच अभी भी कायम है.
नेहा जैसी अन्य कई और प्रतिभाशाली बेटियाँ हैं जो खेल जगत में नाम रोशन कर चुकी हैं लेकिन तंगहाल घरों की होने के कारण मैंने उन्हें पीआरडी के फॉर्म भरते हुए देखा तो दिल बहुत दुखा. काश...यह प्रदेश इन प्रतिभावान बेटियों के लिए कोई सम्मानजनक पद सृजित कर सकता ताकि इनके अनुभवों का लाभ उठाया जा सकता. Manoj Istwal


See More

 
Top