.

.







हल्‍द्वानी : 23 नवंबर  , 2015
उत्तराखंड के हल्‍द्वानी में पत्नी की बेवफाई से तंग आकर एक पति ने ऐसा कदम उठाया कि उसका पूरा परिवार उजड़ गया।

यहां इंद्रानगर निवासी शहनाज की मां साबरा का आरोप सही निकला। दूसरे पति मुसर्रत ने पुलिस के समक्ष खुलासा किया कि उसने बेवफाई के चलते शहनाज का अपने घर में कुल्हाड़ी से कत्ल किया था। सबूत मिटाने के लिए वह शव को बोरे में बंदकर गौला बाईपास में ट्रंचिंग ग्राउंड पर ले गया।

शव को जलाने के बाद हड्डियों को जमीन में दफन कर दिया। इसके बाद वह शहनाज के बेटे को दिल्ली आनंद विहार बस स्टेशन और बेटी को हापुड़ में छोड़कर चला आया। बनभूलपुरा पुलिस ने मुसर्रत को गिरफ्तार कर घटना का खुलासा किया है। पुलिस ने दिल्ली से शहनाज के बेटे को एक संस्था से बरामद कर लिया है। बेटी की तलाश करने के लिए पुलिस टीम हापुड़ भेजी गई है।

बड़ी मस्जिद इंद्रानगर निवासी साबरा ने बनभूलपुरा पुलिस में 26 अक्तूबर को सूचना दी कि उसकी बेटी शहनाज अपने बेटे अलफैज (06) और बेटी अलशिफा (04) के साथ लापता है। इस मामले में चार दिन बाद पुलिस ने धारा 365 के तहत गुमशुदगी का मुकदमा दर्ज किया।  मां ने आरोप लगाया कि उसकी बेटी अपने पति शकील को छोड़कर प्रेमी मुसर्रत के साथ रह रही थी। आशंका है कि मुसर्रत ने उसकी हत्या कर दी है। इस मामले में पुलिस ने मुसर्रत को चार बार पकड़कर पूछताछ की, लेकिन सबूत के अभाव में उसे छोड़ दिया था।

एसएसपी स्वीटी अग्रवाल के निर्देश पर बनभूलपुरा थानाध्यक्ष नीरज भाकुनी ने शनिवार को मुसर्रत को हिरासत में लिया। नाटकीय घटनाक्रम के बाद आरोपी टूट गया। उसने खुलासा किया कि उसने शहनाज से कोर्ट मैरिज की थी। आरोप लगाया कि शहनाज का चाल चलन सही नहीं था जिसके चलते उसने उसे कुछ समय बाद तलाक दे दिया था। तलाक की शर्त के अनुसार मुसर्रत को शहनाज को दो लाख रुपए देने थे।

आरोपी ने शहनाज को 60 हजार रुपए दिए तो वह अपने पहले पति शकील के साथ रहने लगी। बकाया रुपए मुसर्रत से मांग रही थी। इसके चलते मुसर्रत ने उसकी हत्या की योजना बनाई। योजना के तहत उसने अपनी पहली पत्नी और बच्चों को बहेड़ी स्थित ससुराल भेज दिया। इसके बाद उसने शहनाज को 6 अक्टूबर की शाम अपने घर बुलाया।

शहनाज अपने दोनों बच्चों को लेकर मुसर्रत के घर चली आई। मुसर्रत ने बच्चों को खाना खिलाने के बाद सुला दिया। इसके बाद खुद शहनाज के साथ बगल के कमरे में सोने चला गया। रात एक बजे बच्चों और शहनाज के सोने के बाद उसने कुल्हाड़ी से शहनाज के सिर पर कई वार किए। हत्या के बाद उसने शव को बोरे में भर दिया। उस समय हल्की बारिश हो रही थी। 
गौला बाईपास ट्रंचिंग ग्राउंड पर वह पेट्रोल का केन रख आया। इसके बाद शव को घसीटते हुए वह ट्रंचिंग ग्राउंड पर ले गया। पेट्रोल डालकर उसने लाश जला दी और हड्डियां गाड़ दी। पुलिस ने मुसर्रत की निशानदेही पर जमीन खोदकर शहनाज की हड्डियां और कुंडल बरामद किए हैं।

इसके बाद पुलिस की एक टीम ने दिल्ली पहुंचकर शाहदरा स्टेशन के पास अपना घर संस्था से शहनाज के बेटे अलफैज को बरामद कर लिया है। पुलिस की अन्य टीम जो हापुड़ भेजी गई थी उसने लड़की का भी पता लगा लिया है। थानाध्यक्ष का कहना है कि कल तक टीम उसे लेकर यहां आएगी।

डीआईजी पीएस सैलाल ने इस सनसनीखेज घटना का खुलासा करने पर पुलिस टीम को पांच हजार और एसएसपी स्वीटी अग्रवाल ने ढाई हजार रुपए का पुरस्कार देने की घोषणा की है। अमर उजाला


See More

 
Top