.

.







देहरादून : 23 नवंबर  , 2015

छात्रों को रोजगारपरक बनाने के उद्देश्य से सीबीएसई ने अपने से संबद्ध सभी स्कूलों को एक कार्यक्रम चलाने का निर्देश दिया है। इसके तहत स्टूडेंट और इंडस्ट्री के बीच स्किल डिवेलपमेंट को बढ़ावा देने के मुद्दे पर नियमित अंतराल पर चर्चा होगी। इसके लिए सीबीएसई ने जो स्कीम लॉन्च की है, उसका नाम 'सेकंड्री और हायर सेकंड्री एजुकेशन का व्यवसायीकरण' रखा गया है।  हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए दून इंटरनैशनल स्कूल के वाइस प्रिंसिपल दिनेश बरतवाल ने कहा, 'सीबीएसई ने छात्रों के लिए बहुत ही अच्छी पहल शुरू की है। इस महीने शुरू हो रही यह पहल निश्चित रूप से पूरे देश के छात्रों को रोजगारपरक स्किल डिवेलप करने में मदद करेगी। यहां तक कि हमने तो इंडस्ट्रियल विजिट शुरू भी कर दी है, जिसके तहत इंडस्ट्री के लोग छात्रों के साथ संवाद करेंगे।' उम्मीद जताई जा रही है कि पूरे देश में लागू हो रही इस स्कीम का उद्देश्य छात्रों में वे गुण विकसित करना है, जिनकी उनके रोजगार में मांग की जाती है और जिनसे उन्हें नौकरी पाने में काफी आसानी होगी। इससे शिक्षा और रोजगार के बीच की दूरी कम होगी। 
सीबीएई के वोकेशनल एजुकेशन के डायरेक्टर वीवी प्रसाद राव द्वारा सीबीएसई से संबद्ध सभी स्कूलों को भेजे गए सर्कुलर में लिखा गया है, 'यह स्कीम सेकंड्री स्तर पर ड्रॉपआउट छात्रों की संख्या करने के लिए चलाई जा रही है। साथ ही, इससे हायर एजुकेशन में पढ़ाई का दबाव भी कम किया जा सकेगा।' नवभारत टाइम्स


See More

 
Top