.

.





देहरादून : 21 दिसंबर , 2015
शिक्षा के हब देहरादून को नशे का हब बनने से रोकने में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के निर्देश और देहरादून पुलिस के अभियान भी नाकाफी साबित नहीं हो रहे हैं।

नशे का बड़ा बाजार बन चुके दून में युवतियां भी नशे की गिरफ्त में आती जा रही हैं। बीते दो महीने में सरेआम युवतियों के नशे में होने पर हुए हंगामे इसकी तस्दीक करते हैं। रविवार रात हुक्का बार में एक छात्रा की नशे की अधिकता से बिगड़ी हालात तो एक उदाहरण भर है।

हालात ज्यादा खराब हैं। रोजमर्रा पुलिस को नशे में धुत युवतियों के हंगामे से दो-चार होना पड़ता है। इसके बावजूद पुलिस शहर से नशे का नेटवर्क तोड़ने का कोई प्रयास करती नहीं दिख रही है। दून में नशे का कारोबार किस गहराई तक जड़े जमा चुका है कि इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पिछले एक महीने में बिना किसी खास प्रयास के पुलिस ने जिले से 140 नशे के तस्कर पकड़े हैं।

यदि पुलिस बृहद स्तर पर अभियान चलाकर तस्करों के खिलाफ कार्रवाई करे तो सहज अंदाजा लगाया जा सकता है कि ये आंकड़े कहां तक पहुंचेंगे। दून में नशे की मांग दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है।

पुलिस के एक माह की कार्रवाई के आंकड़े इसकी तस्दीक करते हैं। पुलिस ने तस्करों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए पिछले एक माह में 10 किलो 585 ग्राम चरस, 93.58 ग्राम स्मैक, 1556 नशे की गोलियां, 50 नशे के इंजेक्शन, 17.7 किलो गांजा, 166 पेटी अवैध शराब बरामद की है। 



नशे में धुत युवतियों के हंगामे से पुलिस की फजीहत

दून में युवतियां नशे की कम आदी नहीं है। पिछले दो महीने में चार बार सार्वजनिक स्थानों में नशे से धुत युवतियों के हंगामे के बाद पुलिस की फजीहत हुई है।

दो महीने पहले नशे में धुत एक युवती ने दून अस्पताल में जमकर हंगामा काटा था। इस दौरान मरीजों और तीमारदारों को तो परेशानी उठानी पड़ी थी, साथ ही पुलिस की भी फजीहत हुई थी। इस घटना को बीते दस दिन भी नहीं गुजरे थे कि रायपुर थाना क्षेत्र के एक होटल में शराब पीने के बाद युवती ने सड़क पर हंगामा कर दिया।

पुलिस युवती को पकड़कर थाने लाई तो उसने पुलिस पर ही रेप का आरोप लगाकर सनसनी फैला दी थी। हालांकि बाद में युवती के आरोप झूठे साबित हुए लेकिन, मामले में कई दिनों तक पुलिस फजीहत झेलनी पड़ी थी।

इस घटना के एक सप्ताह के अंदर ही नशे में धुत एक युवती ने पटेलनगर थाना क्षेत्र के लाल पुल में जमकर हंगामा काटा था। अब रविवार को एक कॉलेज की छात्रा की नशे की ओवरडोज लेने के कारण हालत खराब हो गई। हालांकि अब उसकी तबीयत ठीक है। 

चाची गैंग का रहा हाथ
दून में नशे का कारोबार मजबूत करने में बरेली के चाची गैंग का काफी हाथ रहा है। दो साल पहले तक यह गैंग सक्रिय रूप से उत्तर-प्रदेश के विभिन्न शहरों से नशे की खेप लाकर दून में सप्लाई करता था। भले ही पिछले दो साल से इस गैंग के किसी सदस्य की गिरफ्तारी न हुई हो, लेकिन शहर में अभी भी इसकी सक्रियता से इनकार नहीं किया जा सकता है। चाची गैंग के सदस्यों ने शुरुआत में दून के कॉलेजों में नशे की खेप पहुंचानी शुरू की थी।अमर उजाला


See More

 
Top