.

.



किसी भी सामान्य आदमी के लिए यह समझ से बाहर की बात है केदारनाथ में इतने बड़े निर्माण की जरुरत आखिर सरकार को क्यों पड़ रही है? गणित बड़ा साफ़ है इस निर्माण से पैसे देने वालों को कमीशन मिलता है और ठेकेदारों को बड़ा लाभ होता है । सिर्फ बे मौत मारे जा रहे हैं तो ठंड में मजदूर। केदारनाथ में जब झील टूटी थी तो उसने केदारनाथ में सफाई कर डाली थी क्योंकि केदारनाथ में पिछले 10 सालों में कंक्रिट का बहुत भारी जंगल खड़ा हो गया था । कंक्रीट के इस जंगल को साफ करने के लिए भगवान भोलेनाथ को अपना रौद्र रूप दिखाना पड़ा । लेकिन सरकार इस रुप से भी सबक नहीं ले रही है अभी भी समय है सरकार जितनी जल्दी हो nim का बोरी बिस्तर बांधते हुए केदारनाथ से दूर हट जाए और वहां पर सभी तरह के निर्माण कार्य को प्रतिबंधित कर दे। जिसको भगवान के दर्शन करने हैं वह दर्शन करें और वापस निचले स्थानों पर चले आएगा। श्रद्धालुओं को तो केदारनाथ जी जिस रूप में है जिस हालत में है उसी में प्रसन्नता हैं दुखी तो बस सिर्फ सरकार है जब वहां कंक्रीट का जंगल थड़ा करेगी तब कमिशन बनेगा सरकार को चाहिए कि केदारनाथ तक ropeway के निर्माण कार्य में तेजी लाएं नकी केदारनाथ को कंक्रीट और सीमेंट का जंगल बनाइए


See More

 
Top