.

.




देहरादून : 22 जनवरी  , 2016
एंड्रॉएड ऐप पर उत्तराखंड समाचार पढ़ने के लिए क्लिक करें
हरिद्वार। पांच साल का पैक्स बहुत जल्द असिस्टेंट अफसर बनने वाला है। पैक्स की सूझ-बूझ और उसकी बहादुरी के बदले उसे यह इनाम मिलने जा रहा है। अरे पैक्स की खूबी बताने के फेर में हम यह बताना ही भूल गए कि आखिर यह पांच साल का पैक्स है कौन। क्या आप मिलना चाहते हैं इस नन्हें से पैक्स से, तो तैयार हो जाइए।  

पैक्स सीमा सुरक्षा बल के डॉग स्क्वायड में शामिल एक कुत्ता है। अर्द्धकुंभ मेले की सुरक्षा के लिए सात कुत्तों का दस्ता हरिद्वार लाया गया है, जिनमें पैक्स भी शामिल है। उसे बीएसएफ के गुजरात स्थित ट्रेनिंग कैंप में प्रशिक्षित किया गया है।

पैक्स ने कल हरिद्वार में रेलवे स्टेशन के पास मिले लावारिस बैग की जांच के दौरान विस्फोटक सामग्री के संकेत दिए थे। पैक्स ने कुछ देर बैग को सूंघा और वहीं बैठ गया। यह संकेत था कि बैग में कुछ विस्फोटक हो सकता है। इसके बाद डीएसएमडी (डीप सर्च मेटल डिटेक्टर) से की गई जांच में भी इसकी पुष्टि हुई।

पैक्स के प्रशिक्षक बीबी तिवारी ने बताया कि पैक्स सभी डॉग स्क्वायड में सबसे ज्यादा चतुर है। उन्होंने बताया कि पैक्स की इस बहादुरी के लिए बीएसएफ महानिरीक्षक को पत्र भेज जा रहा है। उन्होंने बताया कि फिलहाल पैक्स के पास कोई रैंक नहीं है, लेकिन उसे असिस्टेंट आफिसर की रैंक मिलना तय है।

सोने के लिए मिलता है अलग बिस्तर

बीएसएफ के डॉग स्क्वायड में शामिल सभी कुत्तों को ए-वन श्रेणी की सुविधाएं दी जाती है। उनके आने जाने के लिए विशेष वाहन की व्यवस्था रहती है। इसके अलावा पौष्टिक आहार के साथ ही सोने के लिए अलग से बिस्तर भी दिया जाता है। जागरण


See More

 
Top