.

.




हरिद्वार : 17 जनवरी  , 2016
हरिद्वार: देवभूमि उत्तराखंड को सिडकुल ने उद्योग जगत में विकास की नई पहचान दी है। राज्य गठन के बाद से धर्मनगरी में सिडकुल अस्तित्व में आया तो देश-दुनिया की तमाम जानी- मानी कंपनियों ने यहां कल-कारखाने लगाए। वर्तमान में सिडकुल में साढ़े आठ सौ कंपनियां हैं। लाखों लोगों के रोजगार का हब बन कर उभरे हरिद्वार में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर स्टार्ट अप अभियान को उद्यमियों ने खुले मन से सराहा है। हरिद्वार के प्रमुख उद्यमियों ने कहा कि वर्तमान समय में उद्योग लगाना रेगिस्तान में फूल खिलाने जैसा है। छोटे स्तर पर उद्यम शुरू करने का सपना तो सरकारी फाइलों के मकड़जाल में ऐसे उलझता है फिर भी स्वरोजगार का सपना देख रहे युवा किसी कंपनी में नौकरी ढूंढ ही लेते हैं।

प्रधानमंत्री के स्टार्ट अप प्लान से स्वरोजगार को बढ़ावा मिलेगा। हरिद्वार में अपना उद्योग लगाने के ही तरह का माहौल है। इसे लेकर सिडकुल मैन्युफैक्चि¨रग एसोसिएशन उत्साही युवा उद्यमियों को एक मंच पर लाने के प्रयास में लग गया है। स्टार्ट अप प्लान की आधारभूत बातों को युवाओं से साझा करने के लिए जल्द ही कार्यशाला आयोजित करने का निर्णय लिया गया है, जिसमें ऐसे लोगों को शामिल किया जाएगा जो अपना उद्यम लगाना चाह रहे हैं। प्रधानमंत्री की इस योजना का असर दूरगामी होगा और उद्योगों को तेजी से पनपने का मौका भी मिलेगा।

हरेन्द्र गर्ग, अध्यक्ष, सिडकुल मैन्युफैक्चि¨रग एसोसिएशन

उत्तराखंड में अपना रोजगार स्थापित करने के प्रयास में लगे युवाओं की संख्या बहुत है। यहां संसाधन भी हैं, लेकिन पूंजी व मार्गदर्शन की कमी के कारण वह दिशाहीन हैं। सिडकुल का प्रयोग सफल होने के बाद तमाम लोग अपना उद्योग लगाने के लिए आगे तो बढ़े, लेकिन सरकारी तंत्र से सहयोग न मिलने के कारण वह निराश हो गए। स्टार्ट अप प्लान का फायदा केवल उद्योग जगत को ही नहीं मिलेगा, बल्कि लाखों बेरोजगारों को मिलेगा। 
दिनेश रावत, एमडी मेंडीज फाउंडेशन

अभी एक उद्योग लगाने के लिए तीन दर्जन विभागों से कई सर्टिफिकेट लेने पड़ते हैं। इस भागदौड़ में उद्योग लगाने वाला व्यक्ति हतोस्ताहित हो जाता है। स्टार्ट अप प्लान से उद्योग लगाने की प्रक्रिया आसान होगी। साथ ही तीन साल तक आयकर मुक्त होने से उन्हें पांव जमाने का अवसर भी मिलेगा। इससे चीन निर्मित सस्ते सामानों का मुकाबला करने में भी भारतीय बाजार सक्षम होगा। 

राज अरोड़ा, एमडी, सेफगार्ड इंडस्ट्रीज

स्टार्ट अप प्लान की खूबियां निश्चित तौर उद्योग जगत को विकास का नया माहौल देने वाली हैं, लेकिन इसे राजनीति से अलग रखकर देखना होगा। अभी यह योजना केन्द्र सरकार की है। भविष्य में देखना होगा कि राज्य सरकार इस योजना को लेकर क्या रुख अपनाती है। यह तो सही है तमाम लोग पूंजी होने के बाद भी उद्योग लगाने का सपना पूरा नहीं कर पाते, इसमें सबसे बड़ा पेंच सरकारी तंत्र ही होता है। ऐसे में सरकार यदि उद्योग स्थापना को लेकर नरम रुख अख्तियार करती है तो निश्चित तौर पर उद्योग बढ़ेंगे और रोजगार के नए रास्ते भी खुलेंगे। जागरण


See More

 
Top