.

.




हरिद्वार : 17 जनवरी  , 2016
साधुओं के अनेकों अनोखे रूप देखने को मिलते हैं, लेकिन 'गोल्डन बाबा' के चर्चे हर तरफ हैं

नागा साधुओं से लेकर भस्म लपेटे हुए साधुओं की दृश्य तो मनोरम हैं ही, साथ ही 3 करोड़ की जूलरी धारण किए इन गोल्डन बाबा को हर कोई मुड़-मुड़ कर देख रहा है।

शुक्रवार को गोल्डन बाबा ने अपने भक्तों, समर्थकों के साथ गंगा में डुबकी लगाई तो उन्हें जूलरी से लदा देख कई लोग चौंक ही गए।

आप यकीन करें न करें, लेकिन बाबा 15.5 किलो जूलरी पहने रहते हैं, जिसकी कीमत लगभग 3 करोड़ रुपए है

घाट पर सभी बाबाओं के बीच गोल्डन बाबा को देखने के लिए लोगों के बीच होड़ लगी है। बाबा ने गले, हाथ, उंगलियों को आभूषण में मढ़ दिया है। उन आभूषणों में एक 27 लाख का हीरा भी है। बाबा के कुछ समर्थकों ने बातचीत में बताया कि जैसे सोना बहुमूल्य धातु है, वैसे ही हमारे गुरु भी हमारे लिए अमूल्य हैं। भक्तों ने कहा कि बाबा का व्यक्तित्व सोने के साथ फिट बैठता है।

इन बाबा का असली नाम सुधीर कुमार मक्कड़ ह। संन्यासी बनने से पहले बाबा का दिल्ली में कपड़ों का बिजनस था। 53 वर्षीय गोल्डन बाबा ने अपने 'बाबा' बनने की कहानी बताते हुए कहा कि मैंने बिजनसमैन के तौर पर गलतियां की होंगी, लोगों के साथ गलत किया होगा, इन सभी पापों को धुलने के लिए मैंने यह कदम उठाया। बाबा ने कहा कि अब मैं गरीब बेटियों की शादी में मदद करता हूं और इस तरह के कई दान आदि करता रहता हूं। नवभारत


See More

 
Top