.

.





देहरादून: 28 जनवरी  , 2016


योग गुरु रामदेव के हरिद्वार स्थित पतंजिल योगपीठ में सेना के पश्चिमी कमांड के 250 सैनिकों का टीचर्स ट्रेनिंग कोर्स मंगलवार को खत्म हो गया। यह सेशन 10 जनवरी से शुरू हुआ था। अधिकारियों ने कहा कि अब ये सैनिक कमांड के दूसरे सैनिकों को योग सीखने में मदद करेंगे। इस ट्रेनिंग में जवानों को योग की विस्तृत जानकारी दी गई। रामदेव के मार्गदर्शन में उन्हें योग और ध्यान (मेडीटेशन) की सीमाओं के बारे में बताया गया

कमांड की तरफ से एक प्रतिनिधि ने कहा, 'पहले बैच की ट्रेनिंग मंगलवार को पूरी हो गई है। अब तीन दलों में 750 सैनिकों को ट्रेनिंग के लिए भेजा जाएगा।' उन्होंने बताया कि इन एक हजार सैनिकों को प्रशिक्षण देने के लिए छह महीने की समयसीमा तय की गई है। बता दें कि दबाव और जीवन शैली संबंधी बीमारियों के चलते सैनिकों को योग सिखाने की शुरुआत की गई है। इसका मकसद एक हजार योग प्रशिक्षकों को तैयार करना है।

पतंजलि योगपीठ के सहायक कृष्ण मिलन ने टीओआई को बताया, 'बाबा रामदेव ने खुद सैनिकों को ट्रेनिंग दी और उन्हें 12 आसन सिखाए। कई रोगों के लिए विशेष आसन भी सिखाए गए। उन्होंने सैनिकों को सही आहार और फिटनेस नियम का पालन करने की सलाह दी। आचार्य बालकृष्णन ने मेडिटेशन सेशन लिए।'

सेना में योग प्रशिक्षकों की ट्रेनिंग के लिए सेना द्वारा यह कदम उठाया गया है। इसी मकसद के तहत 250 सैनिकों के समूह को ट्रेनिंग के लिए भेजा गया था। नवभारत


See More

 
Top