.

.





देहरादून : 15 जनवरी  , 2016

हल्द्वानी उप-जेल के कैदियों को जल्द ही फिल्मों में अभिनय करने के अपने सपने को पूरा करने का मौका मिल सकेगा। उत्तराखंड में पहली बार जेल प्रशासन 9 जनवरी को एक टैलंट हंट प्रतियोगिता आयोजित करने जा रहा है।

इसके विजेता को किसी हिंदी फिल्म में अभिनय करने का मौका मिलेगा, लेकिन इसके लिए कैदी को अपनी सजा खत्म होने का इंतजार करना पड़ेगा।

अधिकारियों ने कहा कि इस प्रतियोगिता की योजना हाल ही में आयोजित नए साल के जश्न के दौरान बनाई गई। इस जश्न में कई कैदियों ने गाना गाया, नृत्य और अभिनय भी किया।

हल्द्वानी उप-जेल के सुपरिटेंडेंट मनोज आर्या ने बताया, 'नए साल के जश्न के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में हमें महसूस हुआ कि कई कैदियों में अभिनय, संगीत और नृत्य का हुनर है। यह प्रतियोगिता उनके कलात्मक पक्ष को सामने रखेगी और उनकी जिंदगी को और बेहतर व सकारात्मक बनाएगी।

इस प्रतियोगिता को हिंदी फिल्मों के निदेशक व अभिनेता विकी योगी जज करेंगे। विजेता को योगी की फिल्म में अभिनय का अनुबंध दिया जाएगा। योगी ने कई छोटे बजट की फिल्में बनाई हैं। उन्होंने अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती के साथ काम भी किया है। उन्होंने बताया कि इस टैलंट हंट का सेमी-फाइनल मुकाबला बुधवार को पूरा हुआ।

योगी ने बताया, 'जेल के अंदर आयोजित इस मुकाबले के सेमी फाइनल चरण में 40 कैदियों ने भाग लिया। उनमें से 18 को फाइनल मुकाबले के लिए चुना गया है।' हल्द्वानी उप-जेल पहले भी इस तरह की कई कोशिशों में शामिल रही है। पिछले साल 23 जुलाई से जेल में धार्मिक संगीत बजाया जाता है। इस जेल को ब्रिटिश सरकार ने 1903 में बनवाया था। उस समय उत्तराखंड यूनाइटेड प्रोविंस का एक भाग था। इस छोटी सी जेल में हालांकि केवल 250 कैदियों के रहने की क्षमता है, लेकिन फिलहाल यहां लगभग 850 कैदी अपनी सजा काट रहे हैं।  नवभारत टाइम्स



See More

 
Top