.

.





 रुड़की: 28 जनवरी  , 2016

आपको गोविंदा की आंटी 420 फिल्म तो याद होगी न। इसमें प्रिसिंपल के कहने पर गोविंदा को नकली अंकल बनाकर पेश किया जाता है। ऐसा ही एक वाकया रुड़की के केएलडीएवी पीजी कॉलेज में देखने को मिला। एक छात्र एक शख्स को नकली पापा बताकर कॉलेज ले आया। मजे की बात यह है कि इस रियल फिल्म का क्लाइमेक्स गोविंद की फिल्म से बेहतर था। चलिए जानते हैं सुपर क्लाइमेक्स वाली इस रियल कहानी को।

केएलडीएवी पीजी कॉलेज के पांच छात्रों ने इंटर कॉलेज के कुछ छात्रों से मारपीट की दी। इसे लेकर कॉलेज प्रबंधन ने छात्रों को कॉलेज से निलंबित कर दिया। मामले को लेकर छात्रों के अभिभावकों को भी पत्र लिखे गए और वार्ता के लिए कॉलेज बुलाया गया। 

अब कॉलेज प्रबंधन के सामने अभिभावकों की डांट से बचने के लिए बीएससी प्रथम वर्ष के छात्र ने एक चाल चली। वह एक शख्स को पिता बनाकर कॉलेज ले आया। प्राचार्या डा. यशोदा मित्तल ने नकली पिता से उसके नकली लाडले की करतूत के बारे में बताया। नकली पिता भी अच्छी एक्टिंग कर अफसोस जताता रहा।

इसके बाद प्राचार्य ने उनके भेजे पत्र का जिक्र किया तो नकली पिता इस बारे में सही जानकारी नहीं दे पाया। इसके बाद प्राचार्य का दिमाग ठनका। उन्होंने छात्र की मां का नाम पूछा तो शख्स वहीं पर गच्चा खा गया। इसके बाद प्राचार्य ने छात्र के असली पिता को फोन कर कॉलेज बुलाया। इसके बाद छात्र को एक गलती के साथ दूसरी गलती करने पर डांट की डबल डोज मिली। 

नकली पिता को भी खूब फटकार दी गई। प्राचार्या के अनुसार इन छात्रों पर आगे क्या कार्रवाई करनी है, इस संबंध में प्रबंध कमेटी के सदस्यों के साथ मिलकर बैठक की जाएगी।  जागरण


See More

 
Top