.

.




पौड़ी : 29 जनवरी  , 2016

पौड़ी क्षेत्र स्थित थलीसैण के जंगलों में सात गुलदारों को मौत के घाट उतारने के बाद उनकी खालों और हड्डियों की तस्करी के मामले में वन विभाग के त्रिपालीसैण के वन दारोगा को निलंबित कर दिया गया है। विभाग ने थलीसैण और पाबौ ब्लाक के छह लोगों को पूछताछ के बाद छोड़ दिया है।

गढ़वाल वन प्रभाग के थलीसैण क्षेत्र के जंगलों में हुए गुलदारों को मारने और खालों को बेचने के मामले में वन विभाग काफी किरकिरी झेल रहा है। मामले को गंभीरता से लेते हुए डीएफओ रमेश चंद्र ने त्रिपालीसैण क्षेत्र के वन दारोगा कैलाश काला को निलंबित कर दिया है।

खाल और हड्डी तस्करी का मामला
डीएफओ ने बताया कि गुलदारों को मौत के घाट उतारकर उनकी खाल और हड्डी की तस्करी का मामला त्रिपालीसैण क्षेत्र के जंगलों में होने की बात सामने आई है।

क्षेत्र के जंगलों में इतना बड़ा मामला होने के बाद भी त्रिपालीसैण के वन दारोगा 26 जनवरी से नदारद हैं। इसे बड़ी लापरवाही मानते हुए उनको निलंबित कर दिया गया है।

थलीसैण के सहायक वन संरक्षक सुबोध काला ने बताया कि विभाग ने बृहस्पतिवार को जिन छह लोगों को हिरासत में लिया था, उनसे विभागीय अधिकारियों और कालागढ़ के थानाध्यक्ष एनएस गहलावत ने कड़ी पूछताछ की। फिलहाल उन्हें छोड़ दिया गया है। इनमें चार लोग थलीसैण और दो पाबौ ब्लॉक के हैं। जांच अभी जारी है। अमर उजाला


See More

 
Top