.

.





देहरादून : 20 जनवरी  , 2016
एंड्रॉएड ऐप पर उत्तराखंड समाचार पढ़ने के लिए क्लिक करें
उत्तराखंड क्रांति दल (यूकेडी) में असली नकली का झगड़ा निपट गया है। भारत निर्वाचन आयोग ने मई 2015 में पुष्पेश त्रिपाठी की अध्यक्षता में बने यूकेडी के धड़े को मान्यता दे दी है।

इसके बाद अब त्रिपाठी धड़ा यूकेडी के चुनाव चिह्न कुर्सी पर चुनाव लड़ सकेगा। त्रिवेंद्र सिंह पंवार की अध्यक्षता में बना दूसरा धड़ा भी इस पर दावेदारी जता रहा था।

यूकेडी के केंद्रीय अध्यक्ष पुष्पेश त्रिपाठी, संरक्षक काशी सिंह ऐरी, बीडी रतूड़ी, केंद्रीय उपाध्यक्ष प्रताप शाही और दिल्ली प्रदेश इकाई के अध्यक्ष डीडी जोशी ने बुधवार को आयोजित संयुक्त पत्रकार वार्ता में बताया कि निर्वाचन आयोग ने उनके धड़े को असली यूकेडी माना है।

आयोग ने दी कुर्सी चिह्न पर चुनाव लड़ने की अनुमति

आयोग के आदेश में कहा गया है कि उत्तराखंड क्रांति दल को पूर्व में आवंटित चुनाव चिह्न कुर्सी का लाभ दिया जाता है।

यूकेडी के केंद्रीय महामंत्री बहादुर सिंह रावत ने बताया कि निर्वाचन आयोग के 18 जनवरी को आए आदेश से साफ हो गया है कि 16-17 मई 2015 में हुए पार्टी के द्विवार्षिक महाधिवेशन में निर्विरोध चुने गए पदाधिकारियों वाला दल ही असली यूकडी है।

इस दौरान पंकज व्यास, डीडी शर्मा, सुनील ध्यानी, आनंद सिलमाना, बहादुर सिंह रावत, जय प्रकाश उपाध्याय, धर्मेंद्र कठैत, अतुल चंद रमोला, सुरेंद्र कुकरेती, वाहिद खान, आशा शर्मा, महेश मठपाल, डीके पाल, प्रताप कुंवर, इमरान अहमद, वसीर खान आदि मौजूद रहे। अमर उजाला


See More

 
Top