.

.




1:- जो खेत 3 साल से बंजर पड़ा हो , उस पर सरकार या ग्राम पंचायत का कब्ज़ा मान लिया जाए ।

2:- हर प्रवासी व्यक्ति अपनी मासिक आय का 10% प्रतिमाह ग्राम सभा को भेजे । उस धन से गांव में बन्द्रवाळा रखा जाए ।

3:- जो प्रवासी रिटायरमेंट के बाद गांव न लौटे , उससे रोटी बेटी का कोई सम्बन्ध न रखा जाए ।

4:- गांव से अपने साथ बर्तन मांजने और झाड़ू पोछा करने के लिए लड़के ले जाने वालों के विरुद्ध मानव तस्करी का मुक़द्दमा दर्ज़ हो ।

5:- जो प्रवासी साल में कम से कम 1 माह अपने गांव में न गुज़ारे , उसके मकान को पंचायत भवन में तबदील किया जाए ।

6:- जिस प्रवासी के बूढ़े माता पिता गांव में अकेले हों , उस पर गुस्सैल देवताओं की घात लगाई जाए ।

7:- पलायन के लिए कौन जिम्मेदार ? अपनी सुरम्य भूमि छोड़ महानगरों में अपमानित और लांछित होने वाले सुविधा भोगी प्रवासी। अपना पुश्तैनि भवन खण्डहर छोड़ कर किराए के दड़बों में रह कर अपनी शान समझते हैं । अपने घर गांव , खेत खलिहान की सुध लो । साभार: राजीव नयन बहुगुणा


See More

 
Top