.

.





देहरादून: 22 फरवरी , 2016
हरियाणा में फैली जाट आरक्षण की आग की आंच सोमवार को दून तक पहुंच गई। उत्तराखंड जाट महासभा ने सांकेतिक आंदोलन की शुरुआत करते हुए रैली निकाली। महासभा ने डीएम के माध्यम से राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा।

सोमवार को भारी संख्या में जाट समुदाय के लोग परेड ग्राउंड में एकत्र हुए। यहां से सांकेतिक रैली के रूप में जिलाधिकारी कार्यालय गए। इस बीच उन्होंने जाटों को 27 प्रतिशत अलग से आरक्षण दिए जाने और पिछड़े वर्ग की सूची में तुरंत शामिल किए जाने की मांग की।

बड़े स्तर पर आंदोलन की चेतावनी
जाट महासभा के प्रदेश अध्यक्ष ओमपाल सिंह राठी ने कहा कि आरक्षण के लिए आंदोलन कर रहे जाट भाईयों की आवाज दबने नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में जाट आरक्षण को लेकर आज सांकेतिक प्रदर्शन किया गया है। आरक्षण न दिया गया तो वह बड़े स्तर पर आंदोलन करेंगे। समुदाय ने ओमपाल सिंह राठी के नेतृत्व में डीएम के माध्यम से राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को अपनी मांग के समर्थन में ज्ञापन भेजा।

इस मौके पर हरेंद्र बालियान, अशोक तोमर, आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष सतेंद्र मलिक, सुखपाल सिंह राठी, कुलदीप मलिक, प्रमोद कुमार, धर्मवीर सिंह, राजू तोमर, बालेंद्र पंवार, योगेंद्र पाल सिंह, अभिषेक राणा, एचपीएस तोमर, स्वराज मलिक, योगेश राणा, शेर सिंह, हरेंद्र धामा आदि मौजूद रहे। अमर उजाला


See More

 
Top