.

.




देहरादून: 25 फरवरी , 2016
वर्ल्ड रेसलिंग इंटरटेनमेंट (WWE) की फाइट को लेकर दुनियाभर के दर्शकों में भारी उत्साह हो लेकिन इसे स्क्रिप्टेड गेम माना जाता है।

कहा जाता है कि इसमें मारपीट के दांव से लेकर, चोट, खून और परिणाम तक सब पहले से तय होता है। कई बार बड़े मुकाबलों के परिणाम आयोजन से पहले मीडिया में प्रकाशित भी हुए हैं।

डब्ल्यूडब्ल्यूई भारत और उत्तराखंड के लिए बिल्कुल नया खेल है। द ग्रेट खली के अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल में ताकत दिखाने के बाद भारत और उत्तराखंड में भी इसकी शुरूआत हुई। खली का पहला शो बुधवार (24 फरवरी) को हल्द्वानी में हो भी चुका है, जिसमें खली को तीन विदेशी रेसलरों ने धोखे से घायल कर दिया।

अब इस बात पर भी बहस शुरू हो गई है कि कहीं फाइट पहले से फिक्स तो नहीं थी। ऑनलाइन मीडिया में ऐसे कई मामलों का उल्लेख है कि हार-जीत से लेकर पहलवानों के ज्यादातर मूव तय थे।

इसके लिए पहलवान पहले फाइट की रिहर्सल भी करते हैं। हालांकि रेसलर के पास हजारों दर्शकों के बीच गलती का मौका नहीं होता है। अमर उजाला


See More

 
Top