.

.




देहरादून  : 25 मार्च , 2016

प्रदेश कमेटी के पदाधिकारियों की बैठक में भी 28 मार्च तक कोई विरोध प्रदर्शन न करने, जुलूस न निकालने की हिदायत दी गई।
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने सभी पदाधिकारियों को भीड़ न जुटाने और नाराजगी में कोई तीखी प्रतिक्रिया देने के लिए साफ मना कर दिया है।

कांग्रेस ने 28 मार्च तक के अपने विरोध-प्रदर्शन के सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं। कांग्रेस को आशंका है कि भाजपा विरोध प्रदर्शनों को कानून व्यवस्था बिगड़ने और प्रदेश में अराजकता का माहौल का नाम दे सकती है और इसकी आड़ में केंद्र राष्ट्रपति शासन लगा सकता है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कांग्रेस भवन में शुक्रवार देर शाम हुई बैठक में कांग्रेस पदाधिकारियों को दून में भीड़ न जुटाने का फरमान सुनाया और  दिल्ली रवाना हो गए। 27 को कांग्रेस प्रदेश प्रभारी अंबिका सोनी भी दून पहुंच रही हैं।

कांग्रेस पार्टी का मानना है कि भाजपा और सरकार पर अविश्वास जता चुके कांग्रेस के नौ विधायक सरकार गिराने की कोई भी कसर नहीं छोड़ रहे हैं। इन्होंने पहले राजभवन का दरवाजा खटखटाया, फिर राष्ट्रपति से मिले और इसके बाद अदालत का दरवाजा खटखटाया। राष्ट्रपति शासन उस सूरत में भी लगाया जा सकता है, जब राष्ट्रपति को इस बात पर विश्वास हो जाए कि प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की चीज नहीं रह गई है। ऐसे में कांग्रेस को अब यह डर सता रहा है कि 28 मार्च या उससे पहले विरोधी खेमा कहीं यह जताने की कोशिश न करें कि प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है।

शुक्रवार देर शाम कांग्रेस मुख्यालय में हुई कांग्रेस प्रदेश कमेटी के पदाधिकारियों की बैठक में भी 28 मार्च तक कोई विरोध प्रदर्शन न करने, जुलूस न निकालने की हिदायत दी गई। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने सभी पदाधिकारियों को भीड़ न जुटाने और नाराजगी में कोई तीखी प्रतिक्रिया देने के लिए साफ मना कर दिया है। शुक्रवार शाम को किशोर खुद भी दिल्ली रवाना हुए और शनिवार दोपहर तक उनका वापस दून लौटने की उम्मीद है। सूत्रों के मुताबिक किशोर को पार्टी आलाकमान ने वर्तमान हालात को देखते हुए दिल्ली तलब किया है।  अमर उजाला   



See More

 
Top