.

.



डीडीहाट  : 16 मार्च , 2016

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आइटीबीपी) की पहली महिला जवानों की टुकड़ी पहली बार साढ़े 10 हजार फिट की ऊंचाई गुंजी में तैनात कर दी गई है। 14 जवानों की यह टुकड़ी अंतिम भारतीय पड़ाव नाबीढांग तक कांबिंग कर रही है। चीन सीमा पर पहुंचने वाली पहली महिला जवानों की टुकड़ी का नेतृत्व देहरादून की बेटी अनीता चौधरी कर रही हैं।

आइटीबीपी ने बीते दिनों चीन सीमा पर महिला जवानों की तैनाती कर दी है। 7वीं वाहिनी भारत-तिब्बत सीमा पुलिस की पहली महिला जवानों की टुकड़ी भारत चीन सीमा की अग्रिम चौकियों पर तैनात हो चुकी। 14 सदस्यीय महिला जवानों का दल एक मार्च को चीन सीमा पर स्थित साढ़े 10 हजार फिट की ऊंचाई पर स्थित गुंजी चौकी को रवाना हुआ।

गुंजी पहुंचने के बाद इस दल ने गुंजी से लेकर अंतिम भारतीय पड़ाव नाबीढांग तक की कांबिंग शुरू कर दी है। सेनानी भातिसीपु मिर्थी केदार सिंह रावत ने बताया कि पहली बार अग्रिम चौकियों पर महिला जवान तैनात हो चुके हैं। कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग में व्यास घाटी के गुंजी में एक एसआइ के नेतृत्व में 14 महिला जवान सीमा की निगरानी कर रही हैं।

उन्होंने बताया कि महिला जवानों की यह टुकड़ी इस समय साढ़े 10 हजार फिट से लेकर 15 हजार फिट तक चीन सीमा पर नियमित कांबिंग कर रही है। यह दल गुंजी से लेकर कालापानी, नाबीढांग तक कांबिंग कर रहा है। पहली बार इतनी अधिक ऊंचाई पर पहुंची महिला जवान स्वस्थ व सकुशल हैं।

उन्होंने बताया कि इस समय गुंजी में दो फिट, कालापानी में तीन फिट और नाबीढांग में छह फिट से अधिक बर्फ जमी है। इसके बाद भी महिला जवान मुस्तैदी से जुटी हैं। पहली बार सीमा छोर में तैनात महिलाओं का यहां पर पूर्व से तैनात हिमवीर मार्ग दर्शन कर रहे हैं। शीघ्र ही महिला जवानों का दूसरा दल भी अग्रिम चौकियों को रवाना हो जाएगा। जागरण



See More

 
Top