.

.





देहरादून : 22 मार्च , 2016

कुछ और भी आ सकते हैं बागियों के खेमे में।
महाराज समर्थक छह कांग्रेसी विधायकों से उम्मीद।
अब तक एक भी महाराज समर्थक साथ नहीं आया।

उत्तराखंड में उपजे राजनीतिक संकट का भविष्य तो 28 मार्च को पता चलेगा, लेकिन अब भी भाजपा की निगाह कांग्रेस के कुछ विधायकों पर लगी है। भाजपा के रणनीतिकारों को उम्मीद है कि कुछ और भी बागियों के खेमे में आ सकते हैं। फिलहाल दिल्ली से लेकर देहरादून तक यही चर्चा है कि किसके और कितने विधायक टूट सकते हैं। भाजपा को महाराज समर्थक छह कांग्रेसी विधायकों से काफी उम्मीद है।

बदरीनाथ विधायक राजेंद्र सिंह भंडारी, थराली से प्रोफेसर जीतराम, कर्णप्रयाग से अनुसुइया प्रसाद मैखुरी, पौड़ी से सुंदरलाल मंद्रवाल, श्रीनगर से गणेश गोदियाल, देवप्रयाग से मंत्रीप्रसाद नैथानी ऐसे नाम हैं जिन्हें सतपाल महाराज का समर्थक माना जाता है।

खास बात यह है कि 18 मार्च को हुए घटनाक्रम में एक भी महाराज समर्थक भाजपा के साथ नहीं आया। इससे भाजपा में महाराज की राजनीतिक हैसियत पर भी सवाल उठ रहे हैं।  अमर उजाला


See More

 
Top