.

.



देहरादून  : 03 मार्च , 2016

प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था में सुधार हो सके इसके लिए प्रदेश सरकार ने बजट की बीस प्रतिशत धनराशि शिक्षा के क्षेत्र में खर्च करने का निर्णय लिया है। चार महीनों के अंदर सभी विद्यालयों में प्रधानाचार्यों की तैनाती कर दी जाएगी। ताकि नौनिहालों को बेहतर शिक्षा प्राप्त हो सके।  यह बात सूबे के मुखिया हरीश रावत ने जनता इंटर कालेज बाजन में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कही।

रावत ने कहा कि आजादी मिलने के बाद पाली पछाऊं क्षेत्र में जनसहयोग से शिक्षण संस्थाओं की स्थापना कर शिक्षा के प्रति जो अलख जगाई है। उन्होंने कहा कि शिक्षा व्यवस्था में सुधार हो सके इसके लिए सरकार ने बजट की 20 प्रतिशत धनराशि शिक्षा के क्षेत्र में खर्च करने और चार महीने के अंदर सभी विद्यालयों में प्रधानाचार्यों की नियुक्ति करने का निर्णय लिया है।

रावत ने कहा कि क्षेत्र के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को सम्मान दिया जा सके। इसके लिए अधिक से अधिक स्कूलों को उनके नाम पर खोलने का निर्णय भी लिया गया है। सीएम ने कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में खेती की अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि सरकार प्रयास कर रही है कि पर्वतीय क्षेत्रों में पैदा होने वाली चौलाई को यूरोप व अन्य देशों तक पहुंचाने का काम किया जाए।

उन्होंने कहा कि बरसात के पानी को रोका जा सके। इसके लिए पहले चरण में सरकार 1000 गांवों में तालाब बनाने का काम करेगी। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने भी अपने संबोधन में सरकार के कार्यों की सराहना करते हुए अधिक से अधिक संख्या में कांग्रेस पार्टी से जुड़ने की बात कही। उन्होंने कहा कि आगामी चुनावों में सीएम हरीश रावत के नेतृत्व में पार्टी विजय पताका फहराएगी।  हिन्दुस्तान


See More

 
Top