.

.




देहरादून : 18 मार्च , 2016

News Highlights
लिखित में कर चुके थे शिकायत।
उपनल कर्मचारियों का नियमितीकरण नहीं होने से भी थे नाराज।
हरीश रावत को पत्र लिखकर की थी शिकायत।

कृषि मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत कांग्रेस सरकार में अफसरशाही से नाराज थे। कृषि विभाग में काम पर वे अपनी असमर्थता भी जता चुके थे। मुख्यमंत्री हरीश रावत को वे लिखित में शिकायत कर चुके थे कि अफसर उनके निर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं। वहीं, पौड़ी की जिला पंचायत अध्यक्षा एवं शिक्षिका पत्नी का दून से पौड़ी तबादला एवं उपनल कर्मचारियों का नियमितीकरण नहीं होने से भी वे नाराज थे।

कृषि मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत पिछले डेढ़ साल से हरीश रावत की सरकार से नाराज चल रहे थे। डेढ़ साल पहले उनकी नाराजगी तब खुलकर सामने आई जब विभाग के बर्खास्त कर्मचारी के मामले में विभागीय अधिकारियों ने हरक सिंह की जानकारी के बगैर ट्रिब्यूनल के फैसले पर हाईकोर्ट में अपील की।

इससे नाराज हरक ने 14 अगस्त 2014 को मुख्यमंत्री हरीश रावत को पत्र लिखकर कहा कि वे कृषि विभाग में कोई काम करने में असमर्थ हैं। शासन में अफसरों से नाराज कृषि मंत्री यही नहीं रुके। उन्होंने कहा कि उन्हें उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में कार्यपालिका और विधायिका में काम का लंबा अनुभव है। अफसर गंभीर प्रकरणों में पत्रावली उनके संज्ञान में लाए बगैर ही अपील योजित कर रहे हैं।  अमर उजाला


See More

 
Top