.

.





कालागढ़ : 22 मार्च , 2016

कालागढ़ रेंज में गश्त से लौटते वक्त एक वनकर्मी पर बाघ ने हमला बोल दिया। हादसे में वनकर्मी की जान चली गई, जबकि फॉरेस्ट गार्ड समेत एक कर्मी ने साथी को छोड़कर अपनी जान बचाई। सूचना पर पहुंचे वन विभाग के अधिकारियों ने शव को कब्जे में ले लिया है।

मंगलवार सुबह कालागढ़ रेंज के सैंडिल डाम की ओर वन विभाग के तीन कर्मचारी पैदल गश्त को निकले थे। बताया जा रहा है, कि गश्त से लौटते वक्त दोपहर में बुद्धू निवासी कालागढ़ पर पीछे से बाघ ने अचानक हमला बोल दिया। अपने साथी कर्मी पर बाघ का हमला देखकर फॉरेस्ट गार्ड महेंद्र सिंह और एक अन्य कर्मचारी के होश उड़ गए। दोनों ने जैसे-तैसे वहां से भागकर अपनी जान बचाई।

उसके बाद घटना की पूरी जानकरी अधिकारियों को दी। रेंजर कालागढ़ बृजविहारी ने बताया कि कर्मी मंगलवार सुबह गश्त पर गए थे। गश्त से लौटते वक्त दोपहर करीब तीन बजे बाघ ने बुद्धू पर हमला बोल दिया, जिसमें उनकी मौत हो गई। अधिकारियों और कर्मचारियों ने मौके पर पहुंचकर शव की खोज की। शव घटनास्थल से करीब 100 मीटर दूर पड़ा हुआ था। झाडि़यों में पड़े शव को कब्जे में लिया गया। वहीं, मृतक के परिवार को मुआवजा देने की कार्रवाई भी चल रही है। बाघ ने मृतक के सिर पर वार किया है। हिन्दुस्तान


See More

 
Top