.

.



ऋषिकेश : 26 अप्रैल  , 2016

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा कि राज्य में राष्ट्रपति शासन के लिए कांग्रेस स्वयं जिम्मेदार है। कांग्रेस शासनकाल में आबकारी और खाना नीति से राज्य के राजस्व को करोड़ों की क्षति पहुंची है। 

प्रेसभवन में आयोजित पत्रकार वार्ता में प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा कि सदन में मत विभाजन की मांग करना विपक्ष का अधिकार है। 18 मार्च को हमने राज्यपाल और विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिखकर मत विभाजन की मांगी थी।

उन्होंने कहा कि राज्यपाल शासन लगने से अब तक जो भी घटनाक्रम हुआ है उसमें हम सत्ता के लुटेरों को बेनकाब करने में सफल रहे हैं। उन्होंने कहा कि 29 अप्रैल को होनेवाले फ्लोर टेस्ट के लिए भाजपा पूरी तरह से तैयार है। जिस तरह कांग्रेस के नौ विधायकों की अंतरात्मा जागी है, उसी तरह अन्य विधायक भी जागेंगे।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के साढ़े चार साल के शासन में आपकारी नीति के कारण राज्य को 561 रोड का नुकसान हुआ है। खनन नीति में 5400 करोड़ रुपये नेताओं की जेब में गया है। राष्ट्रपति शासन में अकेले नैनीताल जनपद से अवैध खनन पकड़े जाने पर 90 करोड़ का राजस्व मिला है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस लोकतंत्र बचाओ यात्रा के नाम पर लोगों को ठग रही है। स्वयं की गलती पर पर्दा डालने के लिए हरीश रावत और कांग्रेस नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर राष्ट्रपति शासन का आरोप लगा रही है, जबकि कांग्रेस कि अपने अंतर्विरोध के कारण राष्ट्रपति शासन लगा।

इस दौरान भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष कुसुम कंडवाल ज्ञान सिंह नेगी, विधायक प्रेम अग्रवाल अदि मौजूद रहे। जागरण


See More

 
Top