.

.



देहरादून : 10 अप्रैल  , 2016

भाजपा नेता रघुनाथ सिंह नेगी ने पूर्व काबिना मंत्री डा. हरक सिंह रावत पर 107 बीघा जमीन कब्जाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि अपने पद का दुरूपयोग करते हुए पूर्व मंत्री ने करीब 107 बीघा जमीन हड़पकर परिजनों और समर्थकों के नाम कर दी। उन्होंने इस पूरे मामले की सीबीआई जांच करने की मांग की।

रविवार को ओल्ड सर्वे रोड स्थित होटल में पत्रकारों से बातचीत करते हुए जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष नेगी ने आरोप लगाया कि 2002 में तत्कालीन राजस्व मंत्री डा. हरक सिंह नेगी ने शंकरपुर, सहसपुर में लगभग 107 बीघा जमीन फर्जी महिला से पावर ऑफ एटॉर्नी के जरिये हड़प ली। 

पूर्व मंत्री ने रूद्रप्रयाग निवासी वीरेंद्र सिंह कंडारी को मोहरा बनाकर सुशीला रानी नामक फर्जी महिला से पावर ऑफ एटॉर्नी में संशोधन कर फर्जी व्यक्ति को गवाह बना दिया। इसके बाद 2004 में उन्होंने 4.663 हेक्टेयर भूमि अपनी महिला परिजन और 3.456 हेक्टेयर भूमि महिला समर्थक के नाम कर दी। 

वसीयतनामा और मुख्तारनामा में महिला के अलग नाम
उन्होंने कहा कि वसीयतनामा और मुख्तारनामा में महिला के अलग-अलग नाम लिखे गए हैं। इसके अलावा अंगूठे के निशानों में भी काफी अंतर है। उन्होंने आरोप लगाया कि गवाह के रूप में लाया गया फर्जी व्यक्ति संभवत: विकासनगर निवासी है। 

उन्होंने बताया कि डीएम देहरादून की जांच में सुशीला रानी वर्मा की मृत्यु 1974 में होने की बात सामने आई है। प्रशासन ने इन सभी दस्तावेजों को संदिग्ध माना है। शासकीय अधिवक्ता (राजस्व) ने कब्जेदारों की बेदखली और फर्जी मुख्तारनामा बनाने वालों के खिलाफ एफआईआर का सुझाव भी दिया था। 

लेकिन इस पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है। उन्होंने कहा कि जमीनों के फर्जीवाडे में शामिल रहे पूर्व मंत्री अब अपनी ईमानदारी के पोस्टर छपवा रहे हैं। उन्होंने इस मामले में राजभवन से सीबीआई जांच की मांग की। अमर उजाला


See More

 
Top