.

.



हरिद्वार: 19 अप्रैल  , 2016

-कहा, नेहरू परिवार ने हमेशा देश हित में कार्य करते हुए दिया बलिदान
-कोहिनूर हमारी विरासत का प्रतीक, वापस लाने का करें प्रयास 
-शंकराचार्य ने बताई हिंदू और जैन धर्म में कई समानताएं।
क्षत्रिय के अलावा कोई भी न करे मांस सेवन।

जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि पाकिस्तान में हिंदुओं के साथ अत्याचार तब तक नहीं थमेगा, जब भारत एक महाशक्तिशाली राष्ट्र नहीं बन जाता। उन्होंने इस बात का विरोध किया कि इंदिरा गांधी ने कभी मुस्लिम धर्म अपनाया था। शंकराचार्य ने कहा कि नेहरू परिवार ने हमेशा देश हित के लिए कार्य करते हुए बलिदान दिया है।

मंगलवार को कनखल स्थित मठ में पत्रकारों से बातचीत में शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि जब आप मजबूत होंगे तभी दूसरे लोग इज्जत करेंगे।

शंकराचार्य ने कहा कि इंदिरा गांधी ने पारसी युवक से प्रेम विवाह किया था, लेकिन उन्होंने कभी धर्म नहीं बदला। धर्म परिर्वतन की बात विरोधी करते हैं, लेकिन इंदिरा गांधी ने हमेशा देवी देवताओं की पूजा की। इंदिरा गांधी ने विदेशी सभ्यता को भी नहीं अपनाया। अमर उजाला


See More

 
Top