.

.






देहरादून : 17 मई, 2016

फ्लोर टेस्ट में पटखनी देकर भाजपा की किरकिरी कराने के बाद मुख्यमंत्री हरीश रावत लगता है नई एनर्जी के साथ वापस लौटे हैं। उनका मौजूदा फॉर्म तो यही दिखा रहा है। यही तो वजह है कि वह रोज एक न एक दौरे पर नजर आते हैं। वैसे माना जा रहा है कि अघोषित तौर पर मुख्यमंत्री रावत चुनावी मोड में आ गए हैं। तहसील आदिबदरी के 69 राजस्व गांवों के लिए सोमवार का दिन खास रहा। यहां आजादी के बाद पहली बार कोई मुख्यमंत्री पहुंचा। मेले में मुख्यमंत्री को सुनने हजारों की संख्या में ग्रामीण पहुंचे। सोमवार को मुख्यमंत्री हरीश रावत आखिरकार आदिबदरी पंहुच ही गए। यहां वर्ष 2014 और वर्ष 2015 में लगातार दो बार मंदिर समूह के कपाटोद्घाटन में मुख्यमंत्री का कार्यक्रम तय हुआ, लेकिन मुख्यमंत्री नहीं पहुंच पाए। तीसरी बार कार्यक्रम तय होने के बाद यहां पहुंचे मुख्यमंत्री के स्वागत में हेलीपैड से लेकर मेला स्थल तक लोगों की भीड़ उमड़ी। भलसों गांव की बैजंती देवी ने कहा कि राज्य सरकार के पहाड़ी उत्पादों मंडुवा, चौलाई, पशुपालन आदि को बढ़ावा देने की योजना से उनके क्षेत्र को बहुत लाभ मिलेगा। नंदासैंण से लेकर दिवालीखाल तक चौलाई से लेकर पहाड़ी सब्जियों का उत्पादन होता है। थालधार के 70 वर्षीय बलबीर सिंह का कहना था कि वैसे तो क्षेत्र में लंबे समय से लटकी सड़कों का निर्माण पिछले दो सालों से हो रहा है, लेकिन सीएम के आने से सड़क सहित अन्य विकास कार्यों में तेजी के आसार है। वहीं सीएम के पहुंचने से स्थानीय निवासियों में काफी उत्साह देखा गया। तलसारी के बुजुर्ग दर्शन सिंह कुंवर ने कहा कि विकास की दौड़ में पिछड़े इस क्षेत्र की दशा को देखकर सीएम को नई योजनाएं तैयार करनी चाहिए।  अमर उजाला


See More

 
Top