पीएम नरेंद्र मोदी आज दिल्ली मे भारत कोरिया बिजनेस समिट को संबोधित करते हुए कहा कि भारत और कोरिया का रिश्ता सदियों पुराना है, इनमें बहुत सी समानताएं है. बुद्ध की बात हो या बॉलीवुड की हर जगह भारत और कोरिया में समानता देखने को मिल जाती है.

दुनिया में कुछ ही ऐसे देश हैं जिनमें आपको इकोनॉमी के सभी तीन अहम फैक्टर एक साथ मिलते हैं- डेमोक्रेसी, डिमोग्राफी और डिमांड. और मैं गर्व के साथ कहता हूं कि भारत में यह तीनों मौजूद हैं. जब मैं गुजरात का सीएम था, तब कोरिया गया था. मैं आश्चर्यचकित था कि एक देश इस तरह से तरक्की कैसे कर सकता है? कोरिया ने दुनिया को कई बेहतरीन उत्पाद दिए है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में ताज पैलेस होटल में भारत-कोरिया व्यापार सम्मेलन को संबोधित किया.

शिखर सम्मेलन का उद्देश्य दोनों देशों के शीर्ष व्यापार जगत के नेताओं और सरकारी अधिकारियों के बीच एक खुली और क्रिया-उन्मुख बातचीत के लिए रूपरेखा तैयार करना है. भारत-कोरिया संबंधों के बारे में प्रधान मंत्री मोदी ने कहा कि मैं कोरियाई लोगों के उद्यमशीलता की भावना की प्रशंसा करता हूं मैं उस तरीके की प्रशंसा करता हूं जिसमें उन्होंने अपने वैश्विक ब्रांड बनाए और बनाए रखा, आईटी और इलेक्ट्रॉनिक्स से ऑटोमोबाइल और स्टील के लिए, कोरिया ने दुनिया के लिए अनुकरणीय उत्पादों को जोड़ा.

प्रधान मंत्री मोदी ने कहा, “हमने एक स्थिर कारोबारी माहौल बनाने, निर्णय लेने में मध्यस्थता को दूर करने के लिए काम किया है, हम प्रतिदिन के लेन-देन में सकारात्मकता की तलाश करते हैं, हम विश्वास के क्षेत्रों को चौड़ा कर रहे हैं यह भारत की मानसिकता के पूर्ण परिवर्तन का प्रतिनिधित्व करता है.



http://ift.tt/2GNrOl2


See More

 
Top