दिवंगत थराली विधायक मगनलाल शाह की मौत में चौकाने वाला खुलासा हुआ है. जांच रिपोर्ट में स्वाइन फ्लू एन्फ्लुएंजा ए (एच1 एन1) की पुष्टि हुई है. अब पहले यह सवाल उठ रहा है कि जांच रिपोर्ट आने में इतनी देर क्यों हुई.

रविवार 25 फरवरी की रात करीब 10.30 बजे विधायक मगन लाल शाह ने आखिरी सांस ली थी. इससे पहले 19 फरवरी को उन्हें हिमालयन हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था. हिमालयन हॉस्पिटल में भर्ती करने से करीब एक सप्ताह पहले से वह बुखार और खांसी से पीड़ित थे. उनका दून स्थित हॉस्पिटल से उपचार चल रहा था.

हिमालयन अस्पताल प्रशासन का कहना है कि स्वाइन फ्लू के लक्षण पाए जाने पर 21 फरवरी को टीम ने सैंपल जांच के लिए दिल्ली स्थित राष्ट्रीय रोग नियंत्रण संस्थान (एनसीडीसी) की लैब भेजा था. अस्पताल का दावा है कि भर्ती होने के बाद से ही लक्षणों के आधार पर उन्हें स्वाइन फ्लू का उपचार दिया जा रहा था.

इस बीच 22 फरवरी को अचानक उन्हें सांस लेने में तकलीफ बढ़ने के साथ फेफड़ों में इंन्फेक्शन और एआरडीएस पाया गया. इस कारण विधायक शाह को आईसीयू में वेंटीलेटर मशीन पर रखना पड़ा.

हिमालयन हॉस्पिटल प्रशासन ने उपचार के दौरान दिवंगत विधायक के साथ रहे उनके परिजन और तीमारदारों से एहतियात बरतने और जांच कराने की अपील की थी. अस्पताल की ओर से विधायक के परिजनों को जांच की कराने की सलाह दी गयी है.



from http://ift.tt/2GMwTtV


See More

 
Top