दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से मारपीट के मामले में सीएम अरविंद केजरीवाल के सलाहकार वीके जैन ने कोर्ट में कहा था कि मेरे सामने मारपीट हुई थी. उन्होनें कहा कि जिस वक्त अंशु प्रकाश के साथ मारपीट हो रही थी सीएम केजरीवाल खुद मौजूद थे.

उन्होंने कहा कि हाथापाई की जगह डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया भी मौजूद थे. आम आदमी पार्टी ने वीके जैन के बयान पर कहा था कि पुलिस के दवाब में वीके जैन ने बयान बदला है.

संजय सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि वीके जैन का कल बयान आता है कि कोई मारपीट नहीं हुई आज वहीं वीके जैन कह रहे हैं कि मेरे सामने मारपीट हुई है. संजय सिंह ने कहा कि जब पुलिस का मामला फेल हो गया तो वीके जैन को उठाकर उनपर दवाब बनाया गया ताकि दोनों विधायकों की पुलिस रिमांड मिल सके.

दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ सीएम अरविंद केजरीवाल के घर पर हुई मारपीट के मामले में आम आदमी पार्टी की मुश्किलें अभी और बढ़ सकती हैं. इस मामले में दिल्ली पुलिस ने पार्टी के दो और विधायकों को तलब किया है.

न्‍यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार , दिल्ली पुलिस ने इस मामले में पूछताछ के लिए आप विधायक नितिन त्यागी व राजेश ऋषि को बुलाया है. सूत्रों के हवाले से मिल रही जानकारी के अनुसार , अगर पुलिस अधिकारियों को उनके खिलाफ कुछ सबूत मिले तो दोनों नेताओं की गिरफ्तारी भी हो सकती है.

दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जिस दिन सीएम आवास पर अंशु प्रकाश के साथ मारपीट की गई उस दिन विधायक नितिन त्यागी व राजेश ऋषि भी वहां मौजूद थे, इसलिए उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया जा रहा है ताकि मामले की सही से जांच की जा सके. पिछले दिनों हुई जांच में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि यह दोनों विधायक भी अंशु प्रकाश के साथ गलत भाषा का प्रयोग करने और उनके धमकी देने में शामिल थे.

गत 19 और 20 फरवरी की दरम्यानी रात में आप विधायकों प्रकाश जारवाल और अमानतुल्लाह खान द्वारा मुख्य सचिव पर कथित रूप से हमला किए जाने के बाद आईएएस एसोसिएशन दिल्ली सरकार के कामकाज का बहिष्कार किए हुए हैं.

आप की दिल्ली इकाई के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने आरोप लगाया, ‘दिल्ली के मंत्री इमरान हुसैन पर 20 फरवरी को हुआ शारीरिक हमला पूर्व नियोजित था और इसकी साजिश एलजी हाउस पर उपराज्यपाल, मुख्य सचिव और आईएएस एसोसिएशन ने रची थी.’

 



http://ift.tt/2FH0TrA


See More

 
Top