उत्तर प्रदेश के अमरोहा से एक हैरतअंगेज मामला सामने आया है. यहां रहने वाले एक शख्स ने अपने पालतू तोते के निधन पर हिंदू रीति के मुताबिक उसका अंतिम संस्कार करवाया.

इतना ही नहीं इस शख्स ने तोते के निधन पर उसकी आत्मा की शांति के लिए हवन भी करवाया और लोगों को भोज भी. पंडित बुलाकर पूरे रीति-रिवाजों का पालन करते हुए तोते का अंतिम संस्कार किया गया.

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, अमरोहा के हसनपुर निवासी पंकज कुमार मित्तल पेशे से शिक्षक हैं. पंकज ने 5 साल पहले एक तोता पाला था, जिसका 5 मार्च के दिन निधन हो गया.

पंकज ने बताया कि जब मैंने तोते को पाला था तब उसकी हालत बहुत नाजुक थी. तोते के पैर में चोट लगी होने की वजह से वह उड़ नहीं सकता था. वह चील द्वारा किए हमले में घायल हो गया था.

पंकज का कहना है कि मैंने उसकी पट्टी की, उसे ठीक किया. इतना ही नहीं मैंने अपने बेटे से भी ज्यादा प्यार तोते को दिया था. इसलिए उसका अंतिम संस्कार भी पूरे रीति-रिवाज से किया.

पंकज के परिवार ने गंगा घाट जाकर तोते की अस्थियों का विसर्जन किया. साथ ही परिजनों ने तोते के अंतिम संस्कार के भोजन में लोगों को आमंत्रित करने के लिए बकायदा कार्ड छपवाए.

पंडित को बुलाया गया और यज्ञ भी करवाया गया. तोते के निधन से मित्तल परिवार बेहद दुखी है. उनका कहना है कि पिछले पांच सालों से तोता उनके परिवार के सदस्य की तरह रह रहा था.



http://ift.tt/2DpdXiE


See More

 
Top