देहरादून-अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहे खानपुर विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन न जाने कौन सी बाजी खेलने दिल्ली गए हैं. हाल ही में त्रिवेंद्र सरकार के खिलाफ दिए बयान को लेकर खानपुर विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन काफी चर्चाओं में रहे….जिसके बाद भाजपा के कई दिग्गजों ने उन पर हमला किया.

दिल्ली में चैंपियन 4 दिन से डेरा जमाये

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में चैंपियन 4 दिन से डेरा जमाये हुए हैं। दिल्ली में पिछले दिनों से चैंपियन गृहमंत्री राजनाथ सिंह, खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ समेत कई केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात कर रहे हैं। अब ना जाने इसके पीछे का राज क्या है.

केंद्रीय मंत्रियों के साथ चल रही मुलाकात

चार दिन से दिल्ली में रह रहे चैंपियन की केंद्रीय मंत्रियों के साथ चल रही मुलाकात से बीजेपी में एक बार फिर फुसफुसाहट होने लगी है। हर कोई यही कयास लगा रहा है कि कुंवर चैंपियन इसबार राष्ट्रीय राजधानी में कौन सी खिचड़ी पका रहे हैं।

गौरतलब हो कि बीते दिनों प्रणव सिंह चैंपियन ने कुछ ऐसे बयान दिये थे जिससे पार्टी के कामकाज के तरीके में सवालिया निशान खड़े होने लगे थे। उन्होंने साफ शब्दों में कहा था कि डबल इंजन की सरकार का दोहरा मापदंड है। चैंपियन ने सरकार की शिकायत तक करने की धमकी सरकार को दे डाली थी। इस धमकी के बाद वो त्रिवेंद्र सरकार के कामकाज की शिकायत लेकर दिल्ली पहुंच गए थे।

अपने तीखे तेवरों से मुख्यमंत्री और पार्टी के कामकाज पर सवाल उठाने वाले चैंपियन ने दिल्ली पहुंचकर बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से शिकायत की थी। इसी बात से खफा उत्तराखंड बीजेपी ने 17 फरवरी को बीजेपी ने प्रणव सिंह चैंपियन को अनुशासन हीनता का नोटिस थमा दिया था जिसके बाद कुंवर को सरकार से मांफी तक मांगनी पड़ी।

मंत्री पद न मिलने से थे नाखुश

चैंपियन ने सरकार के खिलाफ बयानबाजी के दौरान कहा था कि सरकार में कोई पद मिले या न मिले वो पहले भी शेर थे और रहेंगे। इससे पहले कुंवर ने कहा था कि उत्तराखंड बहुत छोटा पड़ गया है और बाहरी राज्यों में अपने लिये जगह तलाश रहे हैं। इस बीच उनका राजस्थान और उत्तर प्रदेश दौरा भी काफी सुर्खियों में रहा। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि मंत्री पद न मिलने से खानपुर विधायक कुंवर कितने आहत थे।

मोहम्मद सत्तार से भी थे नाखुश

हरिद्वार जिला पंचायत अध्यक्ष के अधिकार सीज करने के बाद सरकार ने पंचायत संचालन के लिए त्रिस्तरीय समिति का गठन किया, जिसमें चैंपियन की पत्नी रानी देवयानी सिंह, अम्मी लाल और मोहम्मद सत्तार को सदस्य बनाया गया। समिति के सदस्य में सत्तार को शामिल करने से कुंवर और खफा हो गए। क्योंकि सत्तार पूर्व विधायक मोहम्मद शाहजाद के छोटे भाई होने के साथ ही कैबिनेट मंत्री और हरिद्वार विधायक मदन कौशिक बहुत करीबी माने जाते हैं।



http://ift.tt/2GRQB7u


See More

 
Top